जलाने के लिए खत्म हुई लकड़ियां तो लोगों ने नदी में फेंकी लाशें, महादेव घाट पर 45 शव मिलने पर मचा हड़कंप

May 11 2021 01:31 PM
जलाने के लिए खत्म हुई लकड़ियां तो लोगों ने नदी में फेंकी लाशें, महादेव घाट पर 45 शव मिलने पर मचा हड़कंप

पटना: कोरोना महामारी ने देश के प्रत्येक कोने में अपना आतंक मचा रखा है वही कोरोना से मरने वालों व्यक्तियों के आंकड़ों में भले ही हेरफेर संभव हो किन्तु बक्सर के चौसा में महादेव घाट पर बहकर आए शवों के अंबार ने बयां कर दिया है कि त्रासदी कितनी बड़ी और भयावह है। अब जब बक्सर के चौसा में महादेव घाट पर नदी किनारे बहकर शव आ रहे हैं तो इंसानियत को शर्मसार कर इस पर भी सियासत आरम्भ कर दी गई है।

जिला प्रशासन ने इस केस से पल्ला झाड़ते हुए बोल दिया कि ये बिहार या बक्सर नहीं बल्कि यूपी के शव हैं जो यहां बह कर आ गए हैं। महादेव घाट में किनारे में शवों के अंबार की ये तस्वीरें आपको विचलित भी कर सकती है। ऐसा लगता है कि शवों ने महादेव घाट को पूर्ण रप से ढक लिया है। हालांकि जैसे ही इस मामले का वीडियो सामने आया जिला प्रशासन के कान खड़े हो गए तथा शवों के अंबार पर गोलमोल जवाब देने का सिलसिला आरम्भ हो गया। 

चौसा के बीडीओ अशोक कुमार ने कहा कि लगभग 40 से 45 शव होंगे जो अलग-अलग स्थानों से बह कर महादेव घाट पर आ गए हैं। बीडीओ ने स्पष्ट रूप से कहा कि ये शव हमारे नहीं है। हम लोगों ने घाट पर चौकीदार को नियुक्त कर रखा है जिससे यहां शवों की समुचित रूप से अंत्येष्टि की जा सके। ये शव यूपी से बहकर आ रहे और यहां किनारे पर पहुंच गए हैं। उत्तर प्रदेश के शवों को यहां पहुंचने से रोकने का कोई उपाय नहीं है इसलिए हम इनके निपटारे के भी इंतजाम कर रहे हैं।

एमएलसी के. कविता ने 200 बिस्तर के कोविड आइसोलेशन सेंटर का किया उद्घाटन

बेगमपेट हवाई अड्डे ने कोविड से संबंधित सहायक सामग्री के संचालन और वितरण के लिए शुरू किया काम

सीएम केजरीवाल का बड़ा बयान, कहा- दिल्ली में अब बेड्स की समस्या नहीं, सफल रहा लॉकडाउन