अलोक वर्मा को हटाने पर कपिल सिब्बल का बयान, कहा सत्ता पक्ष को था पोल खुलने का डर

अलोक वर्मा को हटाने पर कपिल सिब्बल का बयान, कहा सत्ता पक्ष को था पोल खुलने का डर

नई दिल्ली: पीएम मोदी, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और जस्टिस एके सीकरी की सदस्‍यता वाली सिलेक्शन कमिटी द्वारा आलोक वर्मा को सीबीआई के निदेशक पद से हटाने के बाद से विपक्षी दल सरकार पर लगातार हमले कर रहे हैं. अब कांग्रेस के दिग्गज नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने भी इस मामले पर प्रतिक्रिया दी है. सिब्बल ने सीबीआई को 'पिंजरे का तोता' बताया है. कपिल सिब्बल ने कहा है कि पिंजरे के तोते को पिंजरे के अंदर ही रहना होगा.

कैलाश विजयवर्गीय के बड़े बोल, हमारी दया से चल रही मप्र सरकार, जिस दिन बॉस ने इशारा कर दिया...

सीबीआई विवाद पर ताना मारते हुए दिग्गज कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट किया, 'आलोक वर्मा को हटाकर समिति ने ये सुनिश्चित किया कि पिंजरे का तोता कहीं उड़े न, उन्हें इस बात का खौफ था कि पिंजरे का तोता कहीं सत्ता के गलियारों में हो रही गतिविधियों की पोल ना खोल दे, इसलिए पिंजरे का तोता अब पिंजड़े के अंदर ही रहेगा.'

अखिलेश-मायावती ने बुलाई संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस, कर सकते हैं महागठबंधन का ऐलान

उल्लेखनीय है कि आलोक वर्मा को सीबीआई के निदेशक पद से हटाकर अग्निशमन सेवा, नागरिक सुरक्षा और होम गार्ड का महानिदेशक बना दिया गया है. इससे पहले गुरुवार को पीएम मोदी की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय समिति ने आलोक वर्मा को उनके पद से हटाने का निर्णय किया था. इस कमेटी ने आलोक वर्मा के विरुद्ध 2-1 से फैसला सुनाया था. कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, आलोक वर्मा को पद से हटाने के खिलाफ थे, जबकि जस्टिस सीकरी और पीएम मोदी आलोक वर्मा के विरुद्ध जांच जारी रहने तक उनको पद से हटाने के पक्ष में थे.

खबरें और भी:- 

 

अगर आपकी रगों में बाला साहेब का खून है, तो भाजपा से गठबंधन तोड़ो- एनसीपी

आज रामलीला मैदान से भाजपा करेगी चुनावी शंखनाद, दिखेगा मोदी-शाह का जलवा

भाजपा में हुआ बड़ा बदलाव, तीन पूर्व सीएम को मिली महत्वपूर्ण जिम्मेदारी