यूपी चुनाव: क्या अयोध्या में 'मोदी की काशी' जैसा करिश्मा कर पाएंगे योगी आदित्यनाथ ?

अयोध्या: उत्तर प्रदेश की सत्ता पर दोबारा से वापसी के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पूरा जोर लगा रही है. राज्य में OBC के दिग्गज नेताओं के पार्टी से इस्तीफा देने के बाद भाजपा ने अब हिंदुत्व के मुद्दे को धार देने के लिए नई रणनीति तैयार की है. पार्टी ने 2014 में जिस प्रकार पीएम मोदी को वाराणसी लोकसभा सीट से उतारकर यूपी में क्लीन स्वीप कर दिया था. अब उसी तर्ज पर सीएम योगी आदित्यनाथ को अयोध्या विधानसभा सीट के चुनावी मैदान में की तैयारी है. ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या योगी रामनगरी अयोध्या से लड़कर मोदी की तरह यूपी में सियासी कमाल कर सकेंगे ? 

बता दें कि भाजपा हाईकमान दिल्ली में यूपी चुनाव के टिकट को लेकर मंथन में लगा हुआ है. इस दौरान योगी आदित्यनाथ के अयोध्या सीट से चुनाव लड़ाने को लेकर भी बातचीत हुई. बताया जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ को अयोध्या से उतारकर भाजपा राज्य में हिंदुत्व की रणनीति को धार देना चाहती है. भाजपा और RSS के एजेंडे में अयोध्या शुरू से बेहद अहम रही है और यहां से मुख्यमंत्री के चुनाव लड़ने से पार्टी को बड़ा सियासी लाभ हो सकता है.

बता दें कि श्रीराम की नगरी अयोध्या में राममंदिर निर्माण का कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है. मुख्यमंत्री बनने के बाद से योगी आदित्यनाथ लगातार अयोध्या का दौरा करते रहे हैं. विगत पांच वर्षों में सीएम योगी ने 42 बार अवधपुरी का दौरा किया है. इस दौरान उन्होंने अयोध्या को विकास की कई सौगातें भी दी है. बता दें कि अयोध्या में 93 फीसदी हिंदू वोटर हैं और महज 6 फीसद मुसलमान. अयोध्या यूपी के अवध क्षेत्र में आता है और जिसमे विधानसभा की 82 सीटें पड़ती हैं. ऐसे में योगी आदित्यनाथ का अयोध्या से चुनाव लड़ने का प्रभाव केवल  अवध क्षेत्र ही नहीं बल्कि पूर्वांचल के सियासी समीकरण पर देखने को मिल सकता है.

कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ेंगी पूनम पांडे, लुईस खुर्शीद.. प्रियंका ने जारी की पहली सूची

'टिकट' का ऐसा मोह कि कांग्रेस नेत्री ने खुद पर चलवा दी गोली, ऐसे सामने आई साजिश

'गिरगिट से भी ज्यादा रंग बदलते हैं केजरीवाल..', AAP पर सिद्धू का तीखा हमला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -