पूर्व इंटरपोल चीफ मेंग होंगवेई को घूसखोरी में मिली इतने साल की सजा

पूर्व इंटरपोल चीफ मेंग होंगवेई को घूसखोरी में मिली इतने साल की सजा

मंगलवार को वर्ष 2018 में लापता हुए चीन के पूर्व इंटरपोल चीफ मेंग होंगवेई को 13 साल की कैद की सजा दी गई. कोर्ट के अनुसार उन्‍हें यह सजा घूसखोरी के आरोप में दी गई है.इनपर  करीब दो करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. पिछले साल जून में मुकदमे की सुनवाई के दौरान उन्हें 2.1 लाख डॉलर (करीब डेढ़ करोड़ रुपये) की रिश्वत लेने का दोषी पाया गया था. मेंग को 13 साल 6 माह के कैद की सजा दी गई है. पिछले साल चीन के दौरे पर गए मेंग लापता हो गए थे बाद में उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया गया और कम्‍युनिस्‍ट पार्टी से निकाल दिया गया.

बगदादी की मौत के बाद ISIS ने चुना नया सरगना, बहुत ही खूंखार है ये आतंकी

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2018 में फ्रांस स्थित अंतरराष्ट्रीय पुलिस मुख्यालय से अपने देश आए होंगवेई को चीन में हिरासत में ले लिया गया था. बाद में उन्हें सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी से भी निष्कासित कर दिया गया था. मेंग की पत्नी ने इस मामले को लेकर अपने और बच्चों के अपहरण की आशंका जताई थी. इसके बाद फ्रांस ने उन्हें राजनीतिक शरण दे दी थी। वर्ष 2005 से 2017 तक चीन में जनसुरक्षा और तटरक्षक बल के मंत्री रहे मेंग को राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा चलाए गए भ्रष्टाचाररोधी अभियान के तहत पकड़ा गया था. चिनफिंग के इस अभियान को हालांकि कुछ आलोचक राजनीतिक विरोधियों को रास्ते से हटाने की कोशिशों के तौर पर भी देखते हैं.

भारत दौरे पर आएँगे ब्राजील के राष्ट्रपति, गणतंत्र दिवस के समारोह में होंगे शामिल

इस मामले को लेकर तिएनजिन फ‌र्स्ट इंटरमीडियट पीपुल्स कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि मेंग ने अपने रुतबे और पद का इस्तेमाल अनुचित लाभ व रिश्वत लेने के लिए किया. चीन सरकार की ओर से बताया गया कि मेंग ने अपने सभी अपराध कुबूल लिए हैं और वह फैसले के खिलाफ अपील नहीं करेंगे.

नेपाल के एक रिसोर्ट में मृत पाए गए केरल के 8 पर्यटक, मृतकों में 5 मासूम बच्चे

FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर आने के लिए छटपटा रहा पाक, अब अमेरिका ही बचा सकता है साख

भारत को बदनाम करने से बाज़ नहीं आ रहा पाक, यूनाइटेड नेशंस में फिर अलापा कश्मीर राग