23 अगस्त को 'इतिहास' रचने जा रहा है चंद्रयान-3, ISRO चीफ ने बताया क्यों क्रैश हुआ था चंद्रयान-2 ?

23 अगस्त को 'इतिहास' रचने जा रहा है चंद्रयान-3, ISRO चीफ ने बताया क्यों क्रैश हुआ था चंद्रयान-2 ?
Share:

नई दिल्ली: ISRO का महत्वकांक्षी मिशन, चंद्रयान -3 कल यानी 23 अगस्त को चाँद की दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करने के लिए पूरी तरह तैयार है।  यदि, ISRO सॉफ्ट लैंडिंग करवाने में कामयाब रहता है, तो भारत ऐसा करने वाला दुनिया का पहला देश बन जाएगा, जिसने चाँद के दक्षिणी ध्रुव पर कदम रखा है। इससे पहले 2019 में ISRO ने चंद्रयान-2 लॉन्च किया था, जो सफलता पूर्वक चाँद तक पहुँच तो गया था, लेकिन लैंडिंग के दौरान विक्रम लैंडर क्रैश हो गया था, जिससे मिशन असफल हो गया था। चंद्रयान-3 में ISRO ने पूर्व में हुई गलतियों को सुधारा है, ऐसे में उम्मीद है कि इस बार भारत चाँद फतह जरूर करेगा।   

ISRO के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने तीन मुख्य कारण बताए हैं, जिनके कारण 6 सितंबर, 2019 को टचडाउन से कुछ मिनट पहले विक्रम लैंडर की क्रैशलैंडिंग हुई थी। उन्होंने कहा कि, 'लैंडर के पांच इंजनों का अधिक जोर पैदा करना, त्रुटियों का पता लगाने के लिए सॉफ्टवेयर की सीमा और छोटी लैंडिंग साइट' लैंडर के क्रैशलैंडिंग के तीन प्राथमिक कारण थे। उन्होंने कहा कि, 'संक्षेप में, हम कह सकते हैं कि पैरामीटर भिन्नता या फैलाव को संभालने की (हमारी) क्षमता बहुत सीमित थी।' कुछ दिन पहले दिल्ली में SIA इंडिया द्वारा आयोजित इंडिया स्पेस कांग्रेस के मौके पर बोलते हुए, सोमनाथ ने कहा कि, 'इस बार हमने लैंडर में अधिक ईंधन डाला है, कई सुरक्षा उपाय प्रदान किए हैं और सफल लैंडिंग को सुनिश्चित करने के लिए एक बड़ी लैंडिंग साइट रखी है।'

उन्होंने कहा कि, 'इस बार हमारे पास लैंडिंग स्थल की बहुत स्पष्ट छवि है, क्योंकि चंद्रयान -2 ऑर्बिटर के कैमरे (OHRC) ने हमें पूरे चंद्रमा की हाई-रिज़ॉल्यूशन तस्वीरें प्रदान की हैं। पिछली बार के विपरीत जब हम लैंडिंग स्थल को देखने के लिए लैंडर की छवियों पर निर्भर थे, इस बार हम साइट को पहले से ही जानते हैं क्योंकि सभी बोल्डर और क्रेटर पहले ही मैप किए जा चुके हैं।'  ISRO चीफ ने कहा कि, 'प्राथमिक मुद्दे थे: एक, हमारे पास पांच इंजन थे, जिनका उपयोग वेग (जिसे मंदता कहा जाता है) को कम करने के लिए किया जाता था। इन इंजनों ने हाई थ्रस्ट विकसित किया। जब इतना अधिक जोर दिया जा रहा था, तो इस अंतर के कारण कुछ अवधि में त्रुटियां जमा हो गईं। सभी त्रुटियाँ जमा हो गईं, जो हमारी अपेक्षा से थोड़ी अधिक थीं। जब यह (लैंडर) बहुत तेजी से मुड़ने लगा, तो इसकी मुड़ने की क्षमता सॉफ्टवेयर द्वारा सीमित कर दी गई, क्योंकि हमने कभी इतनी ऊंची दर आने की उम्मीद नहीं की थी। यह दूसरा मुद्दा था। विफलता का तीसरा कारण लैंडर की लैंडिंग के लिए 500 मीटर x 500 मीटर की छोटी साइट थी।'

इस बार उन गलतियों को सुधारते हुए ISRO चीफ ने कहा कि, 'इस बार हमने लैंडिंग साइट के लिए 4.2 किमी (ट्रैक के साथ) x 2.5 किमी (चौड़ाई) का क्षेत्र रखा है। इसलिए, यह कहीं भी उतर सकता है, इसलिए यह आपको किसी विशिष्ट बिंदु को लक्षित करने तक सीमित नहीं करता है। ISRO ने लैंडिंग ऑपरेशन के लिए दक्षिणी ध्रुव के पास एक ऐसी जगह चुनी है, जहां अब तक शायद ही किसी देश ने कदम रखा हो। उन्होंने कहा कि, "सफलता-आधारित डिज़ाइन के बजाय, ISRO ने इस बार विफलता-आधारित डिज़ाइन का विकल्प चुना है और इस बात पर ध्यान केंद्रित किया है कि क्या विफल हो सकता है और इसे कैसे सुरक्षित रखा जाए और एक सफल लैंडिंग सुनिश्चित की जाए।' उन्होंने कहा कि, हमने सेंसर विफलता, इंजन विफलता, एल्गोरिदम विफलता, गणना विफलता को देखा तो, अंदर अलग-अलग विफलता परिदृश्यों की गणना और प्रोग्राम किया गया है। हमने सिमुलेशन के लिए नए परीक्षण बेड बनाए, जो पिछली बार नहीं था। यह विभिन्न विफलता परिदृश्यों को देखने के लिए था।' ISRO प्रमुख ने कहा कि विक्रम में अब अन्य सतहों पर अतिरिक्त सौर पैनल हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि यह जमीन पर कैसे भी उतरे, बस पावर जनरेट करे।

PM मोदी ने की CM शिवराज की तारीफ, बोले- 'MP में पिछले 3 वर्षों में करीब 50 हजार...'

एक ठगी ने ले ली हंसते-खेलते परिवार की जान, बच्चों को जहर देकर फंदे पर झूले पति-पत्नी, शारिक-अरशद, फरहान सहित 5 गिरफ्तार

दिल्ली रेप: अस्पताल के फर्श पर सोती नज़र आईं स्वाति मालीवाल, पुलिस पर लगाया गुंडागर्दी का आरोप

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -