केंद्र ने राज्यों को तीसरी लहर से बचने के लिए भीड़-भाड़ वाली जगहों दूर रहने की दी चेतावनी

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने बुधवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) को भीड़-भाड़ वाले स्थानों को नियंत्रित करने और संभावित कोविड -19 संभावित तीसरी लहर के प्रबंधन के लिए आवश्यक उपाय करने के लिए जिले और अन्य स्थानीय अधिकारियों को सख्त नियम जारी करने का आह्वान किया। देश के कई हिस्सों में, विशेष रूप से सार्वजनिक परिवहन और हिल स्टेशनों में, ऐसे समय में जब घातक वायरस की तीसरी लहर विभिन्न देशों में शुरू हो चुकी है और संभावना है कि यह देश के कई हिस्सों में कोविड मानदंडों के “घोर उल्लंघन” की ऊँची एड़ी के जूते नहीं है। अगर लोग सरकार द्वारा निर्दिष्ट उचित सुरक्षा उपायों का पालन करने में विफल रहते हैं तो भारत पर असर पड़ेगा। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को जारी परामर्श में स्पष्ट किया है कि कोविड के उचित व्यवहार को सख्ती से लागू करने में किसी भी तरह की ढिलाई के लिए संबंधित अधिकारियों को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार बनाया जाना चाहिए।

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला द्वारा भेजे गए एडवाइजरी में यह भी सलाह दी गई है कि संबंधित राज्य सरकारों या केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन, जिला अधिकारियों द्वारा इस संबंध में जारी किए गए आदेशों को व्यापक रूप से जनता और क्षेत्र के अधिकारियों को उनके उचित कार्यान्वयन के लिए प्रसारित किया जाना चाहिए।

एडवाइजरी ने यह स्पष्ट किया कि कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए इस तरह की कार्रवाइयां आवश्यक हैं, और यह कि "डिफॉल्टर संबंधित कानूनों के तहत कार्रवाई के लिए भी उत्तरदायी होगा"। एमएचए की एडवाइजरी उन खबरों के बाद आई है, जिनमें सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्लंघन करने वाले बाजारों में भारी भीड़ उमड़ रही है और इसके परिणामस्वरूप कुछ राज्यों में 'आर' फैक्टर (प्रजनन संख्या) में वृद्धि हुई है।

मैगजीन कवर पर जबरदस्त लुक में नजर आईं जैकी श्रॉफ की बेटी कृष्णा

भारत इतना असुरक्षित कभी नहीं रहा: राहुल गांधी

8 करोड़ रुपए की रोल्स रॉयस के मालिक शिवसेना नेता पर दर्ज हुआ 35 हज़ार रुपए का बिजली चोरी का केस

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -