मीट बैन मामला : अपने बयान से पलटे केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा

Sep 15 2015 06:12 PM
मीट बैन मामला : अपने बयान से पलटे केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा

नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा के एक वक्तव्य ने एक बार फिर मीट मसले पर विवाद को जन्म दिया है। इस बार उन्होंने कहा है कि मांस का विक्रय नवरात्रि के पर्व के दौरान प्रतिबंधित किया जाना चाहिए। उन्होंने अपील की कि लोग इस अवधि में नाॅनवेज नहीं खाऐं। उन्होंने दुकानदारों से भी अपील की कि वे मांस को न बेचें। 

हालांकि वे अपने ही बयान से मुकरते नज़र आए। एक टेलिविज़न चैनल को दिए गए साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि वे अपने विचार किसी पर भी थोपते नहीं हैं। हां वे अपील जरूर करते हैं। मगर उन्होंने ऐसा कोई भी बयान नहीं दिया है।उल्लेखनीय है कि पर्यूषण पर्व को लेकर जैन समाज द्वारा मांस विक्रय को प्रतिबंधित करने की मांग की जा रही है।

मुंबई में कुछ दिनों के प्रतिबंध के बाद हाईकोर्ट ने मांस विक्रय को शर्तों के साथ अनुमति दे दी। जिसके तहत बाहर से मांस लाकर नवी मुंबई में बेचा जा सकेगा। इस मामले में राजनीतिक दलों द्वारा मीट बैन को गलत बताते हुए इस पर लगा प्रतिबंध हटाने की मांग की गई थी। जहां महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने स्टाॅल लगाकर कई जगहों पर चिकन का विक्रय किया था वहीं शिव सेना और कांग्रेस ने भी अपना विरोध जताया था।