मुख़्तार अंसारी और अतीक अहमद की अरबों की संपत्ति होगी जब्त, ED लेगा एक्शन

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में योगी सरकार माफियाओं के खिलाफ कड़ा रवैया अपना रही है और अवैध कब्जा करने वालों पर ताबड़तोड़ एक्शन लिया जा रहा है। इस बीच खबर है कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने माफिया मुख्तार अंसारी और अतीक अहमद पर शिकंजा कस लिया है और अब वह इनकी सम्पत्तियों को जब्त करने वाला है। ED ने पिछले सप्ताह इन दोनों से जेल में लंबी पूछताछ की है। अतीक से गुजरात के साबरमती जेल में और मुख्तार से यूपी के बांदा जेल में सवाल-जवाब किए गए हैं।

ED ने दोनों के खिलाफ हवाला कानून के तहत एक्शन लिया है। इसके तहत दोनों की संपत्ति को जब्त किया जाएगा। सूत्रों ने जानकारी दी है कि जेल में जब इन दोनों से पूछताछ की गई, तो दोनों माफिया सही जवाब नहीं दे सके। जिसके बाद ये फैसला किया गया कि इनकी संपत्ति जब्त की जाएगी। इससे पहले ये खबर मिली थी कि ED मुख्तार अंसारी के 7 और अतीक अहमद के 12 बैंक अकाउंट की जांच करके मनी लॉन्ड्रिंग के सबूत एकत्रित कर रही है।

बता दें कि मुख्तार अंसारी इस वक़्त यूपी की बांदा जेल में कैद है। एक दौर था जब यूपी में पूर्व से पश्चिम तक हर माफिया मुख्तार अंसारी के नाम से खौफ खाता था। कोई भी उससे दुश्मनी मोल नहीं लेना चाहता था। जब उसका काफिला सड़कों से गुजरता था, तो लोग सहम जाते थे। उसकी 20 से 30 एसयूवी गाड़ियां एक साथ सड़क से गुजरती थीं। वहीं, प्रयागराज का माफिया डॉन और पूर्व सांसद अतीक अहमद गुजरात की साबरमती जेल में सजा काट रहा है। उसके पिता एक जमाने में इलाहाबाद स्टेशन पर तांगा चलाने का काम करते थे। मगर अतीक के सिर पर अमीर बनने का जुनून सवार था, इसलिए उसने महज 17 साल की उम्र में ही अपराध जगत में कदम रख दिया। साल 1989 में अतीक डॉन से नेता बन गया और  2004 तक वह छह बार चुनाव जीता। 

ISS से चार एस्ट्रोनोट्स लेकर पृथ्वी पर लौटा Spacex, पूरा हुआ 200 दिन का स्पेस मिशन

बिटकॉइन और एथेरियम में आया जबरदस्त उछाल

भारत पर मंडरा रहा जलवायु परिवर्तन का खतरा, बड़े पैमाने पर प्रभावित हो सकती है चीजें

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -