मिसाल: पिछले 30 वर्षों से 'रोज़ा' रख रहे हैं बिगन सिंह, बोले- हम सब एक ईश्वर की संतान

May 13 2021 02:11 PM
मिसाल: पिछले 30 वर्षों से 'रोज़ा' रख रहे हैं बिगन सिंह, बोले- हम सब एक ईश्वर की संतान

औरंगाबाद: आज के समय में भी समाज में कुछ लोग ऐसे हैं, जो धर्म-जाति के भेदभाव भूलकर सामाजिक सौहार्द की मिसाल पेश कर रहे हैं. बिहार के औरंगाबाद जिले के नवीनगर प्रखंड के टंडवा के रहने वाले बिगन सिंह चंद्रवंशी  इन्हीं कुछ लोगों में से एक हैं. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, 43 वर्षीय चंद्रवंशी बीते 30 सालों से हिन्दू होते हुए भी रमजान में रोजा रखते हैं. इसकी शुरुआत उन्होंने 1991 में की थी.

बिगन बताते हैं कि रोजा रखने से उन्हें अपार शांति का अनुभव होता है. रोजा रखने के साथ ही वे हिंदुओं के पर्व भी हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं. उन्होंने बताया कि आज सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ते हुए समाज को फिर से एक डोर में बांधने की जरुरत है. इस कार्य में उनकी पत्नी समेत पूरा परिवार सहयोग करता है. इससे पहले वो कोलकाता में रहते थे. वहीं, उन्हें इस बात का एहसास हुआ कि ईश्वर के साथ अल्लाह की भी पूजा की जानी चाहिए.

इसके बाद उन्होंने एक तरफ भगवान शिव की आराधना की, तो दूसरे ओर अल्लाह की इबादत भी की. बिगन की मानें रोजा रखने पर आस-पास के लोगों ने उनका विरोध भी किया और रोजा ना रखने के लिए कहा. किन्तु उन्होंने उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया. बिगन का मानना है कि ईश्वर एक है और हम सब उसी एक ईश्वर की संतान हैं. ऐसे में लोगों को यह बात समझनी चाहिए कि जब हम सब एक ही ईश्वर की संतान हैं, तो फिर आपस में इतना भेदभाव क्यों?

भारत सरकार दे रही सोना खरीदने का सुनहरा मौका, 17 मई से शुरू होगी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की बिक्री

वैक्सीन के लिए एक दूसरे से लड़ रहे राज्य, ख़राब हो रही देश की छवि- अरविन्द केजरीवाल

भारत बायोटेक और SII का वादा- अगले 4 महीनों में देश को देंगे इतनी वैक्सीन