Editor Desk: 11 मौतों का राज हमेशा राज ही रहेगा...

Jul 06 2018 04:49 PM

हाल ही में दिल्ली के बुराड़ी में हुई 11 लोगों की डेथ मिस्ट्री पूरी दुनिया में चर्चा का विषय बन रही है. हत्या और आत्महत्या के एंगल से जांच करने के बाद पुलिस ने शनिवार को केस सॉल्व हो जाने का दावा किया था लेकिन अब एक बार फिर से इस केस में कुछ ऐसे सवाल सामने आ रहे है जो इस मिस्ट्री को और भी उलझा रहे है. 

अरुणा आसफ अली अस्पताल के फॉरेंसिक साइंस के सीनियर स्पेशलिस्ट डॉक्टर एलसी गुप्ता के अनुसार मरने वाले 11 लोगों में कुछ लोगों की हत्या हुई है वहीं पुलिस का इस मामले में नजरिया थोड़ा अलग है. डॉक्टर गुप्ता का इस बारे में मानना है कि जिस हालत में शव मिले है उस हिसाब से सभी का ख़ुदकुशी करना संभव नहीं है.

दिल्ली बुराड़ी इलाके में हुई किसी भी हत्या या आत्महत्या के लिए शव को सब्जी मंडी मॉर्च्यूरी पोस्टमार्टम रूम में लाया जाता है, बुराड़ी केस में पुलिस इन शवों को लेकर पहले यहीं पहुंची थी लेकिन डॉ. गुप्ता ने इस बारे में दावा किया है कि दिल्ली पुलिस अचानक सभी शवों को लेकर  मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज पर आई थी वहीं इतने गंभीर केस में जब सीनियर डॉक्टर हॉस्पिटल में मौजूद थे फिर भी जूनियर डॉक्टरों से पोस्टमार्टम कराया जाना इन मौतों पर गंभीर सवाल खड़े करता है. 

हमारे देश के कानून के मुताबिक ही इस बात जिक्र है कि, किसी भी हत्या या आत्महत्या में पोस्टमार्टम सूर्यास्त के बाद नहीं किया जाता लेकिन इस मामले में पुलिस ने पोस्टमार्टम सूर्यास्त के बाद कराए. हालाँकि कोई हाईप्रोफाइल केस हो तो कलेक्टर से परमिशन लेकर शहर के चार अलग-अलग हॉस्पिटल के सीनियर डॉक्टर ऐसे केस में पोस्टमार्टम करते है लेकिन इस केस में ऐसा कुछ भी नहीं किया गया. 

11 लोगों की मौत वाले दिन, परिवार ने सुबह के नास्ते के लिए भीगा चना और दही रखा था. इस पर सवाल यह उठता है कि जब कोई मरने वाला हो तो वो सुबह के लिए नास्ते के बारे में क्यों सोचेगा. वहीं जांच में एक बात एक बात और सामने आई थी, वो यह कि मौत के कुछ घंटे पहले एक डिलीवरी बॉय ने खाना डिलीवर किया था, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार घर के कई लोगों का पेट खाली था, जो कई मायनों में सवाल खड़े करता है. 

अभी तक इस केस में जो सवाल उठ रहे है, उनकी तह तक पहुंच पाना शायद बहुत मुश्किल है लेकिन इस केस को हर एंगल से देखने के बाद लगता है जैसे इस केस में बहुत बड़ा रहस्य छुपा है जिस पर पर से पर्दा उठना अभी बाकी है. रोज के नए खुलासे के बीच इस घर के आसपास के लोग और बच्चे अभी भी दहशत में है.

बुराड़ी केस: 7 साल पुराने पन्ने से हुआ नया खुलासा

बुराड़ी केस: नहीं बोल पाता था ललित, करता था पिता की आवाज में बातें

बुराड़ी केस: रजिस्टर ने खोला एक और राज