अब सम्पूर्ण विश्व में बजेगा योग का डंका

Dec 17 2018 05:00 PM
अब सम्पूर्ण विश्व में बजेगा योग का डंका

हरिद्वार : योग गुरु स्वामी रामदेव की पतंजलि योगपीठ योग और प्राणायाम के साथ अब विश्वभर से अनुसंधान के क्षेत्र में भी जुड़ रही है। भारत के अलावा दुनियाभर में फैली जड़ी बूटियों को संग्रहित करने के लिए विश्व के अनेक देशों के साथ एमओयू साइन किए जाएंगे। दुनिया की प्राच्य विद्याओं का भी भारत की विद्याओं के साथ समन्वय स्थापित किया जाएगा। पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण ने शनिवार को बताया कि भारत के प्रयासों से योग को अंतरराष्ट्रीय दर्जा मिल जाने के बाद पूरे विश्व में योग के प्रति आकर्षण बढ़ा है। साथ ही भारतीय आयुर्वेद की मांग भी बढ़ती जा रही है।

आचार्य से प्राप्त जानकारी के अनुसार पश्चिमी देशों के साथ साथ पूर्व के देशों ने भी आयुर्वेद की जानकारी हासिल की है। इसके अलावा कला, संस्कृति, परंपरा, शिक्षा, प्राच्य विद्या आदि का समन्वित पाठ्यक्रम तैयार करने पर बल दिया गया है। आचार्य ने बताया कि पहले ही दुनिया के अनेक विश्वविद्यालयों में पतंजलि की ओर से तैयार योग पाठ्यक्रम पढ़ाएं जा रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक हाल ही में चीन ने योग में भारी रुचि दिखाई है। उसके साथ उन सभी देशों में भी योग और आयुर्वेद के प्रति जागरूकता उत्पन्न हुई है, जो कभी कम्युनिज्म से जुड़े हुए थे।

बाबा रामदेव ने गुजरात में खोला पतंजलि परिधान का पहला शोरुम

झारखंड : सरकार ने मिलाया पतंजलि से हाथ, किसानों की बढ़ेगी आय

अब आंध्र प्रदेश में भी फूड पार्क खोलेगी पतंजलि, 33,000 लोगों को मिलेगा रोजगार