केजरीवाल सरकार का 'गज़ब विज्ञान'.., यमुना को साफ करने के लिए खोजा ये नायाब तरीका, देखें Video

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में यमुना नदी का पानी गंदे नालों और कारखानों से निकलने वाले केमिकल के चलते पूरी तरह से जहरीला हो गया है। छठ के पर्व पर भक्तों की सुविधा के मद्देनज़र अब दिल्ली जल बोर्ड के कर्मचारी जहरीले झाग से निजात पाने के लिए यमुना नदी पर पानी छिड़क रहे हैं। इसको लेकर सोशल मीडिया पर लोग केजरीवाल सरकार को ट्रोल कर रहे हैं। इस मामले में दिल्ली जल बोर्ड के कर्मचारी अशोक कुमार ने मीडिया को बताया कि वे शाम तक झाग से छुटकारा पाने के लिए नदी के किनारे यमुना के जल में पानी का छिड़काव करेंगे।  यह छठ पूजा के लिए जहरीले झाग को खत्म करने की योजना का हिस्सा है, जहाँ भक्त सूर्य से प्रार्थना करते हुए नदी में डुबकी लगाते हैं।

 

हालाँकि, नेटीजन्स को यह समझ नहीं आ रहा है कि पानी छिड़कने के बाद नदी कैसे साफ हो जाएगी। साथ ही, लोगों को ये बात भी परेशान कर रही है कि जब इतने आसान तरीके से जहरीले झाग से निपटा जा सकता था तो अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने नदी की सफाई के लिए 2000 करोड़ रुपए क्यों स्वीकृत किए थे। सोशल मीडिया पर यूज़र्स यह जानने का प्रयास कर रहे हैं कि जहरीले झाग को छितरा देने भर से यमुना के पानी का जहरीलापन किस तरह कम होगा।  

 

गजेंद्र नामक एक यूजर ने तंज कसते हुए लिखा कि 'गैर-मानसून महीनों में यदि इस प्रकार से यमुना में पानी का छिड़काव करने से नदी का जल स्तर बढ़ सकता है और शायद राष्ट्रीय राजधानी में भी जल संकट का समाधान हो सकता है। इतने अच्छे आइडिया का मजाक उड़ाने वाले लोगों को शर्म आनी चाहिए।' दरअसल, यमुना के पानी के जहरीलेपन से निजात पाने के केजरीवाल सरकार के इस आइडिया से हर कोई हैरान है। वहीं, खुद केजरीवाल के पूर्व सहयोगी रही डॉ कुमार विश्वास ने भी इस मुद्दे पर कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया है, जिसके साथ उन्होंने वीडियो भी शेयर किया है। 

जैसे राहुल गांधी ने किया था PM मनमोहन का अपमान, अब चन्नी के साथ वही व्यव्हार कर रहे सिद्धू

जानिए क्यों चिराग और चाचा पशुपति ने पीएम मोदी का जताया आभार

राजनाथ सिंह ने भारतीय वायुसेना कमांडरों की सुरक्षा बैठक को किया संबोधित

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -