धड़ से अलग होने के बाद फिर जुड़ेगा सिर

Apr 23 2015 05:24 PM
धड़ से अलग होने के बाद फिर जुड़ेगा सिर
style="text-align: justify;">इटली : अब तक आपने चिकित्सा विज्ञान के चमत्कारों से किडनी ट्रांसप्लांटेशन, आई ट्रांसप्लांटेशन की बात सुनी होगी लेकिन क्या आपने किसी व्यक्ति में हेड ट्रांसप्लांटेशन की बात सुनी है। जी नहीं, मगर हाल ही में सर्जन सर्जियो कानावेरो ने ऐसा ही एक दावा किया है। हालांकि अन्य चिकित्सक उनके इस दावे को सही नहीं मान रहे। मिली जानकारी के अनुसार सर्जन कानावेरो द्वारा यूरोपियन यूनियन द्वारा इस बात की इजाजत नहीं दीती है। 

मगर वे चीन में इस तरह का प्रयोग करेंगे। सर्जियो का कहना है कि वे सोवियत संघ ने पहली बार अंतरिक्ष में मानव भेजने का प्रयोग किया। अमेरिका ने ऐसे कई कार्य किए जो दुनिया में पहली बार किए गए और आज वे एक मिसाल बन गए। हालांकि उन्हें अरबपति दिमित्री इत्सकोव द्वारा समर्थन दिया जा रहा है। दूसरी ओर अमेरिकन एसोसिएशन फाॅर न्यूरोलाॅजिकल सर्जन्स के प्रसिडेंट डाॅ. हंट बेजर ने कहा कि इंसान इस तरह की बात सोच भी नहीं सकता, इसे एक सनक से अधिक कुछ नहीं कहा जा सकता। 

कोमा के बाद जीवन 

इस मसले पर सर्जन कानावेरो ने कहा कि सिर ट्रांसप्लांट के लिए किसी मृत या ब्रेनडेड व्यक्ति के शरीर का उपयोग किया जाएगा। इस दौरान उसके शरीर से स्पाईनल काॅड और सिर को अलग कर दिया जाएगा। जिसके बाद इसे एक अन्य धड़ में जोड़ दिया जाएगा। आॅपरेशन के अंतर्गत रोगी को 4 हफ्तों में कोमा की स्थिति में रखना होगा। 4 हफ्तों बाद सिर शरीर के अंगों से जुड़कर स्थिर हो जाएगा।