कर्नाटक के परिणामों पर बैंगलुरु फैक्टर का असर

कर्नाटक विधानसभा चुनावो के नतीजे आज आ रहे है. वोटो की गिनती अब से कुछ ही देर में शरू होने वाली है और देश भर की निगाहे इन नतीजों पर टिकी है.  भारत के 5वें सबसे बड़े और सुविधाजनक महानगर राजधानी बेंगलुरु  सिलिकॉन सिटी का अपना दबदबा है. कहा जाता है कि राज्य की सत्ता की राजनीति का रास्ता बेंगलुरु से तय होता है. कर्नाटक में बीजेपी के दिग्गज नेता इसी क्षेत्र से आते हैं. इनमें केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार, पूर्व मुख्यमंत्री सदानंद गौड़ा, आर अशोक और सुरेश कुमार शामिल हैं.

कांग्रेस कार्यसमिति के दिनेश गुंडूराव, अशोक खेनी और मुनिरत्न नायडू इसी क्षेत्र से आते हैं. बेंगलुरु क्षेत्र के तहत पांच लोकसभा और 32 विधानसभा सीटें आती हैं. बेंगलुरु सिटी, बेंगलुरु नॉर्थ, बेंगलुरु साउथ और बेंगलुरु सेंट्रल इलाके आते हैं. बीजेपी ने विधानसभा चुनाव में इस बेंगलुरु क्षेत्र के लिए अलग से घोषणा पत्र जारी किया है. 2013 के विधानसभा चुनाव में बेंगलुरु क्षेत्र के तहत आने वाली सीटों में से करीब आधी कांग्रेस के नाम रहीं. 32 सीटों में से कांग्रेस ने 15 सीटों पर जीत दर्ज की थी. जबकि बीजेपी ने 12 और जेडीएस ने 5 सीटों पर जीत हासिल की थी. वोट शेयर के लिहाज से कांग्रेस को 41 फीसदी, बीजेपी को 32 और जेडीएस को 19 और अन्य को 8 फीसदी मत मिले थे.

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने बेंगलुरु क्षेत्र में जबर्दस्त प्रदर्शन किया था. बीजेपी को इस क्षेत्र से 53 फीसदी और कांग्रेस को 37 फीसदी वोट मिले. जेडीएस को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा था. जेडीएस को महज 6 फीसदी वोट मिले. लोकसभा चुनाव के वोटिंग पैटर्न को देखें तो बीजेपी 24 विधानसभा सीटों पर आगे रही. जबकि कांग्रेस 8 सीटों पर आगे रही. विधानसभा चुनाव में 6 सीटें जीतने वाली जेडीएस लोकसभा चुनाव में एक भी सीट पर आगे नहीं रह सकी. खैर आज आधा दिन गुजरने के पहले ही इस बात का पता चल जायेगा की कर्नाटक की गद्दी किसके नसीब में है. 

 

कर्नाटक किसका ? फैसला आज

कर्नाटक चुनाव में खूब बरसा धन, साबित हुआ सबसे महंगा विधानसभा चुनाव : सर्वे

सर्वे में मोदी सरकार पर संतोष जताया

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -