अपने भव्य कार्यक्रम के लिए 60 देशों को निमंत्रण देगी RSS, लेकिन पाकिस्तान शामिल नहीं

नई दिल्ली। देश के प्रशिद्ध हिन्दू संगठन  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने अपने आगामी भव्य कार्यक्रम के लिए दुनिया के तक़रीबन 60 देशों को निमंत्रण भेजने की योजना बना ली है लेकिन उसने इन देशो की सूचि में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को शामिल नहीं किया है। 

कांग्रेस नेताओं की राहुल गांधी को सलाह, आरएसएस से दूर रहना ही बेहतर

दरअसल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) जल्द ही देश की राजधानी  दिल्ली में अपना एक भव्य तीन दिवसीय व्याख्यान श्रृंखला कार्यक्रम आयोजित करने जा रहा है। इस कार्यक्रम में संघ प्रमुख मोहन भागवत दुनिया भर से आये लोगों को सम्बोधित करेंगे। इस दौरान दर्शकों को भी यह अवसर प्रदान किया जायेगा कि वे संघ प्रमुख मोहन भागवत से संघ और धर्म से जुड़े विभिन्न सवाल पूछ सकते है। इस कार्यक्रम के लिए आरएसएस उन राजनीतिक दलों को भी आमंत्रित करने जा रहा है जो कई बार  विभिन्न मुद्दों पर आरएसएस पर आक्रामक बयान देकर उसे घेरने की कोशिश कर चुके है। 

वर्षों से प्रताड़ित हो रहे हैं हिंदू, अब एकजुट होना होगा : मोहन भगवत

अपने विरोधियो को भी आमंत्रण भेज कर उदारता दिखाने वाले आरएसएस से जब केवल पकिस्तान को निमंत्रण न भेजे जाने के बारे में सवाल किया गया तो आरएसएस के एक कार्यकर्ता ने जवाब दिया कि  पाकिस्तान को इसलिए आमंत्रित नहीं जा रहा है क्योंकि वो आतंक का समर्थन करता है और भारतीय सीमाओं पर बार-बार गोलीबारी की घटनाओं को अंजाम देकर भारतीय सैनिकों को मारता भी है। 

आपको बता दें कि इस कार्यक्रम के लिए आरएसएस ने  उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती, अखिलेश यादव, ग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत  राजनीतिक, धार्मिक व अन्य कई छेत्रो से तक़रीबन 3000 लोगों को आमंत्रण भेजा है। 


ख़बरें और भी 

शिकागो में आयोजित होगी विश्व हिंदू कांग्रेस, RSS चीफ मोहन भागवत समेत 80 देशों के 2500 से ज्यादा नेता होंगे शामिल

धर्म पर सियासत: भाजपा के राम के बाद अब अखिलेश ने अपनाए कृष्ण

राहुल गाँधी पर आरएसएस का करारा प्रहार कहा, जो भारत को नहीं समझता, वो संघ को क्या समझेगा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -