भारत को विश्व की आध्यात्मिक शक्ति बनाएँगे - बाबा रामदेव

बांसवाड़ा : हम सभी को मिलकर 2050 तक भारत को विश्व की महान आध्यात्मिक शक्ति बनाना है.इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को योग को अपनाना होगा. यह बात बाबा रामदेव ने यहां पतंजलि चिकित्सालय का उद्घाटन करने के पश्चात् कही.

आपको बता दें कि बारे रामदेव ने योग पर प्रकाश डालते हुए कहा कि योग का अर्थ है जुडऩा. जब सभी जुड़ कर एक रूप हो जाएंगे तो कोई भी कार्य असंभव नहीं है. उन्होंने यह भी कहा कि योग जीवन को निरोगी बनाता है. इसके पूर्व बाबा रामदेव ने प्रसिद्ध शक्तिपीठ मां त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में दर्शन किए. पंडित निकुंज मोहन पण्ड्या के आचार्यत्व में वैदिक मंत्रोच्चार के पूजा अर्चना की गई. इस मौके पर पंचाल समाज द्वारा योग गुरु का दुपट्टा पहनाकर स्वागत किया. इस अवसर पर बाबा रामदेव ने गोवर्धन गोशाला का शिला पूजन कर परिसर में नि:शुल्क बैलगाड़ी वितरित की.

उल्लेखनीय है कि बाबा रामदेव ने एलएनजे भीलवाडा यूनिट मयूर नगर लोधा में स्टॉफ कर्मियों को संबोधित कर कहा कि योगी बने निरोगी बने और समाज के लिये उपयोगी बने. बाबा ने अपने जीवन का मुख्य उद्देश्य स्पष्ट करते हुए कहा कि 2050 तक भारत को आर्थिक तथा आध्यात्मिक क्षेत्र में शिखर पर पहुंचाना है. स्वदेशी आंदोलन के लोगों के सहयोग को देखकर विदेशी कंपनियां घबरा गई हैं. बाबा ने टेक्सटाइल क्षेत्र में भी उतरने की घोषणा की.

यह भी देखें

अन्य कंपनियों के पतंजलि ट्रेडमार्क पर लगी रोक

क्या जबरदस्ती सन्यासी बना रहे हैं बाबा रामदेव ?

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -