पुलिस को मिले सैनिक की हत्या के सुराग

जम्मू-कश्मीर में 24 नवंबर की रात को भारतीय सेना के जवान इरफान डार को अज्ञात लोगों ने गोलियों से छलनी कर दिया था जिससे डार की मौत हो गयी थी. डार सेना की 175 टेरीटोरियल आर्मी में सिपाही था. इस हत्या के मामले में पहले तो सेना को एक भगोड़े सैनिक पर आशंका थी, लेकिन अब शोपियां पुलिस ने इस हत्या के मामले को सुलझा लिया है.

उल्लेखनीय है कि इरफान डार का शव 25 नवंबर को वुथमूला गांव में मिला था. इस मामले में पुलिस ने एफअाईआर दर्ज करके जाँच शुरू कर दी थी. जाँच में पता चला कि हेफ निवासी बिलाल मोहम्मद , गडबग निवासी तोसीफ निवासी, आतंकवादी सद्दाम पाडर, डार की हत्या में शामिल थे, इनके साथ एक आतंकवादी भी था श्रीमल निवासी मुजमिल जिसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया है.

बता दे कि डार की हत्या का मुख्य साजिशकर्ता मुजमिल था, वह इरफ़ान के गांव गया था और उसे अपने साथ वुथमूला लेकर आया था. वुथमूला गांव के एक बाग में पहले से मौजूद आतंकवादियों ने डार पर गोलियों से हमला कर दिया था. पुलिस ने मुजमिल को गिरफ्तार कर लिया है और अन्य आरोपियों की तलाश जारी है.

भारत ने किया 'आकाश' का सफल परीक्षण

मेक इन इंडिया ने दी भारत को नई पहचान

इंडियन आर्मी और J&K पुलिस को नाबाद दोहरे शतक की बधाई- सहवाग

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -