इंदौर में शहरी इलाके की स्क्रीनिंग हुई पूरी, 6013 हाई रिस्क श्रेणी में पाए गए

मध्यप्रदेश के इंदौर में कोरोना ने तेजी से पैर पसार लिए है. वहीं, शहरभर में 9 दिन से चल रही स्क्रीनिंग के तहत बुधवार को शहरी इलाके के लगभग हर घर को कवर कर लिया गया है. पहले दौर में 28,33,681 लोगों की स्क्रीनिंग पूरी हुई. हालांकि इसमें कुछ इलाकों की बहुमंजिला इमारतें या मल्टियां छुटी हुई हैं, जहां लोगों ने सर्वे टीम को प्रवेश नहीं करने दिया है.

दरअसल एक या दो दिन अब दूसरे दौर की स्क्रीनिंग शुरू होगी. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने को लिए इंदौर ने देश के अन्य जिलों और शहरों की तरह डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग की पद्धति अपना ली है. इसके तहत हॉट स्पॉट वाले कंटेनमेंट एरिया के साथ साथ उन इलाकों की भी स्क्रीनिंग की जा रही हैं, जहां पॉजिटिव केस नहीं मिले हैं.

जानकारी के लिए बता दें की जिला प्रशासन और नगर निगम ने स्क्रीनिंग के लिए 1600 आंगनवाड़ी कार्यकर्ताएं, निगमकर्मी, एनजीओ के सदस्य और शिक्षकों को मैदान में उतारा है. हर टीम एक-एक सेक्टर दिया गया. इसमें 207 कंटेनमेंट एरिया शामिल हैं. पूरे शहर की स्क्रीनिंग के दौरान 6013 हाई रिस्क श्रेणी में पाए गए हैं. जिनमें बुखार, सांस की तकलीफ और पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए लोग शामिल हैं. यह सभी कोरोना संदिग्ध की श्रेणी माने जाएंगे. इनके नाम, पते दर्ज कर लिए गए हैं. डॉक्टर्स इनसे लगातार संपर्क में हैं. दूसरे दौर में भी इसी तरह लोगों की स्क्रीनिंग होगी. प्रशासन का मानना है कि जिनमें अभी तक कोरोनाके लक्षण अभी तक नहीं उभरे हैं, वे भी अगली स्क्रीनिंग दौर में सामने आ जाएंगे. इस तरह से हम उन कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करवा सकेंगे.

शिवराज सरकार का बड़ा फैसला, किसानों के बैंक खाते में फसल बीमा का पैसा

नरोत्तम मिश्रा से मिलीं MLA रामबाई, मजदूरों को वापस लाने पर हुई बातचीत

उज्जैन के आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में शुरू हुआ कोरोना टेस्ट, भेजे गए 102 सैंपल

 

 

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -