कांग्रेस के विधायकों को BJP क्यों ज्वाइन करवा रहे 'कैप्टन' ? जानें पंजाब चुनाव का गेमप्लान

अमृतसर: पंजाब के चुनावी दंगल में अब तक जिस भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को कमजोर माना जा रहा था, उस पार्टी में बीते एक हफ्ते में तीन कांग्रेस विधायक शामिल हो चुके हैं। कांग्रेस के इन तीनों विधायकों को पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह का ख़ास माना जाता है। किन्तु सवाल यह उठ रहा है कि उन्होंने कैप्टन अमरिंदर की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस (PLC) की बजाय भाजपा को क्यों चुना। 

बता दें कि गुर हर सहाय विधानसभा सीट से MLA और पूर्व कैबिनेट मंत्री राणा गुरमीत सोढी ने 21 दिसंबर को भाजपा की सदस्यता ले ली थी। वह अमरिंदर सरकार में खेल मंत्री थे, किन्तु चन्नी के दौर में उन्हें कैबिनेट से निकाल दिया गया। इसके बाद मंगलवार को ही कादियान से कांग्रेस MLA फतेह जंग बाजवा और श्री हरगोबिंदपुर से MLA बलविंदर सिंह लड्डी ने भी भाजपा का दामन थाम लिया। पंजाब की राजनीति के जानकारों का कहना है कि इन लोगों के भाजपा में जुड़ने का कारण यह है कि भगवा दल का शहरी क्षेत्रों में अच्छा जनाधार है। 

ऐसे में इन नेताओं को उम्मीद है कि वे अपने चेहरे पर सिख वोट प्राप्त कर सकेंगे और भाजपा के चुनाव चिन्ह पर लड़कर बड़ी संख्या में हिंदू वोट बटोरकर विधायक बन जाएंगे। कैप्टन अमरिंदर की पार्टी में शामिल न होने को लेकर बताया जा रहा है कि उनकी पार्टी अभी नई है, ऐसे में PLC को जीत मिल पाना कुछ कठिन होगा। कहा तो यहां तक जा रहा है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह आने वाले वक़्त में अपनी पार्टी को भाजपा में ही विलय करने वाले हैं। हालांकि PLC के प्रवक्ता प्रिंस खुल्लर ने इन अफवाहों को नकार दिया है और उनका कहना है कि इन नेताओं ने कैप्टन से सलाह के बाद ही भाजपा का दामन थामा है। 

NCP नेता एकनाथ खडसे की बेटी की कार पर बदमाशों ने किया अटैक, जांच में जुटी पुलिस

सचिन पायलट ने बनाया 51 मीटर का साफा बाँधने का अनोखा रिकॉर्ड, कभी लिया था साफा न पहनने का प्रण

'साइकिल' एक्सीडेंट में मौत हुई या सांड ने टक्कर मारी.. हम देंगे 5 लाख- अखिलेश यादव का ऐलान

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -