नूपुर शर्मा और सुप्रीम कोर्ट पर विवेक अग्निहोत्री ने किया ट्वीट, आई कमैंट्स की बाढ़..

नई दिल्ली: भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा के बयान पर सर्वोच्च न्यायालय की फटकार के बाद फिल्म निर्माता  विवेक अग्निहोत्री का ट्वीट सुर्ख़ियों में है। विवेक ने बिना किसी का नाम लिखे इशारों में अपनी बात कही है। विवेक के ट्वीट पर सोशल मीडिया पर कई तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।  

 

विवेक ने अपने ट्वीट में लिखा है कि, 'पीड़िता को शर्मसार करना अब कानूनी है।' उनके इस ट्वीट के बाद यूज़र्स ने इस पर कमेंट्स किए हैं। एक यूजर ने लिखा है, 'सुप्रीम कोर्ट को दूसरी तरह को भी लताड़ना चाहिए, बुरे शब्द दूसरी तरफ से भी बोले गए हैं। यह एक तरफा नहीं हो सकता।' एक अन्य यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा है कि, 'इस ओवर-ऐक्टिव ज्यूडिशियरी और इनऐक्टिव सरकार के साथ हिंदुओं का रलिव या गलिव होने में 5-10 साल से ज्यादा नहीं लगेगा, हिंदुओं के लिए दुनिया में कोई देश नहीं होगा, चलिव का ऑप्शन ही नहीं है।'

एक यूज़र ने कमेंट किया है कि, 'सरकार भले ही उनका हो सिस्टम तो हमारा है, ये बात आज नूपुर शर्मा के जजमेंट पे साबित हो गया है, ये बहुत दुख की बात है, ये हमारे देश की भविष्य को दरसा रहा है, जंहा हिन्दुओ की आश्था, और उनके लाइफ की कोई वैल्यू नही है, और नाही उनको आज़ादी है कि ओ अपने आश्था के लिए लड़े। गजब का सविंधान।' अमित सराफ ने लिखा कि, 'सुप्रीम कोर्ट का बयान अत्यंत गैरजिम्मेदार व शर्मनाक हैंl      अगर नूपुर शर्मा के ही व्यक्तव्य से ये हुआ है तो आज से 32 वर्ष पहले कश्मीर में जो हुआ था वह किसके कहने पर हुआ थाl क्या इस तरह से हम एक विशेष संप्रदाय को जिहाद के नाम पर कत्लेआम करने की छूट नहीं दे रहे हैं।'

सचिन चौहान ने लिखा कि, 'ये सुप्रीम कोर्ट भगवान नहीं है पूरे विश्व में जहां इस्लामिक आतंकवाद के नाम पर सर काटे जा रहें हैं तो क्या सबकी जिम्मेदार नुपुर शर्मा हैं हिन्दू देवी देवताओं के अपमान पर हिन्दूओं ने कितने सर काटे जज साहब जिहादियों का हौसला और बुलंद कर रहें हैं।' एक अन्य यूज़र ने लिखा कि, 'वो शिवलिंग को बार-बार प्राइवेट पार्ट कहें, तो चुपचाप सुन लो, नहीं तो वहां से चले जाओ, वो उकसाएं तो भी कुछ न बोलो। क्योंकि तुमने कुछ बोला तो वो तुम्हारी हत्या कर देंगे और कोर्ट तुम्हारी हत्या का इल्जाम तुम्हारे 'बोलने' पर ही लगा देगा।'

बता दें कि पैगंबर मोहम्मद के बारे में विवादित बयान देने पर सर्वोच्च न्यायालय ने नूपुर शर्मा को फटकार लगाई है। साथ ही कहा है कि नूपुर के कारण ही उदयपुर की घटना हुई। दरअसल, नुपुर ने सुरक्षा के मद्देनजर अपना केस दिल्ली स्थानांतरित करने की अपील की थी। जस्टिस सूर्य कांत और जस्टिस जे बी पारदीवाला की पीठ ने पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी पर नूपुर शर्मा को फटकार लगाई है। बेंच का कहना है कि पूरे देश का माहौल उनकी वजह से खराब हुआ और नूपुर को टीवी पर ही पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। नूपुर ने कोर्ट से मांग की थी कि उन्हें सुरक्षा दी जाए। इस पर अदालत ने कहा कि, उन्हें तो खतरा नहीं है, पर उनकी वजह से पूरा देश खतरे में आ गया है।

'सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी से नूपुर शर्मा को जान का ख़तरा..', जानिए किसने कही ये बात

क्या ये शरीया कोर्ट है ? नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी से भड़के नेटिजन्स

हत्यारों के परिवार को 'सुरक्षा' दे रही राजस्थान पुलिस, कन्हैयालाल के घर एक हवलदार तक नहीं..

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -