अब अयोध्या में नहीं होगा उद्धव ठाकरे का स्वागत, VHP ने किया ऐलान

अयोध्या: रामनगरी अयोध्या के साधु संतों और विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने ऐलान करते हुए कहा है कि कंगना रनौत मामले के बाद महाराष्ट्र के सीएम और शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे का 'अयोध्या में स्वागत नहीं होगा'। हनुमान गढ़ी मंदिर के पुजारी महंत राजू दास ने रानौत के दफ्तर को BMC द्वारा ध्वस्त किए जाने को लेकर सवाल खड़े करते हुए कहा कि, "उद्धव ठाकरे और शिवसेना का अब अयोध्या में कोई स्वागत नहीं है। अब यदि वह यहां आते हैं, तो महाराष्ट्र के सीएम को अयोध्या के संतों के सख्त विरोध का सामना करना पड़ेगा।"

महंत राजू दास ने आगे कहा कि, "महाराष्ट्र सरकार ने कंगना के खिलाफ बिना वक़्त गंवाए काम को अंजाम दिया। किन्तु वही सरकार अभी तक पालघर में दो साधुओं के कातिलों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर सकी है।" VHP के क्षेत्रीय प्रवक्ता शरद शर्मा ने कहा कि, "यह जाहिर है कि शिवसेना जानबूझकर कंगना को निशाना बना रही है क्योंकि वह राष्ट्रवादी ताकतों का समर्थन कर रही है और उसने मुंबई के ड्रग माफिया के खिलाफ आवाज बुलंद की है।" उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार द्वारा अभिनेत्री के खिलाफ गलत मंशा से कार्रवाई की गई है।

अयोध्या संत समाज के मुखिया महंत कन्हैया दास ने महाराष्ट्र सरकार पर उन लोगों को बचाने का भी इल्जाम लगाया, जो असामाजिक गतिविधियों में संलिप्त हैं और उन्होंने महाराष्ट्र के सीएम को अयोध्या न आने की चेतावनी तक दे डाली। महंत कन्हैया दास ने कहा कि, "अब अयोध्या में उद्धव ठाकरे का स्वागत नहीं होगा। शिवसेना रनौत पर हमला क्यों कर रही है? हर कोई समझ सकता है। यह कोई रहस्य नहीं है। शिवसेना वह नहीं रही, जो कभी बालासाहेब ठाकरे के समय में हुआ करती थी।"

दुबई के लिए शुरू हुई हवाई सेवा, हफ्ते में तीन दिन चलेगी फ्लाइट

सोने-चांदी की वायदा कीमतों में भारी गिरावट, यहाँ जानें ताज़ा भाव

शेयर बाजार में बहार, सेंसेक्स 38900 के पार

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -