वसीम जाफर ने आखिर क्यों सचिन तेंदुलकर से ज्यादा तरजीह दी सहवाग को..

Jul 03 2020 03:05 PM
वसीम जाफर ने आखिर क्यों सचिन तेंदुलकर से ज्यादा तरजीह दी सहवाग को..

भारतीय क्रिकेट टीम के सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग दोनों ही अलग मिजाज के बल्लेबाज थे। जहा सहवाग अपने तूफानी अंदाज के लिए जाने जाते थे तो वहीं सचिन वक्त के मुताबिक अपनी बल्लेबाजी को गति देने में विश्वास रखते थे। ये दोनों ही खिलाड़ी बल्लेबाज के तौर पर काफी सफल रहे है और जब तक ये खेलते रहे तब तक इन्होने भारतीय क्रिकेट फैंस का जमकर मनोरंजन भी किया। हालांकि अगर बात सचिन और सहवाग की बल्लेबाजी की तुलना की हो तो शायद ही दोनों के बीच तुलना करना ठीक होगा, लेकिन पूर्व भारतीय ओपनर बल्लेबाज वसीम जाफर ने दोनों को लेकर अपनी राय रखी है। 

वही यदि वसीम जाफर की बात की जाये, तो वसीम जाफर में जितनी प्रतिभा थी वो उसकी उतनी चमक इंटरनेशनल सर्किट पर वो नहीं बिखेर पाए, लेकिन घरेलू स्तर पर फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपनी बल्लेबाजी में उनका जलवा काफी निखरकर सबके सामने आया । हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान वसीम जाफर से पूछा गया कि पू्र्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग में से उनका पसंदीदा बल्लेबाज कौन है। मुंबई के इस बल्लेबाज ने जो उत्तर दिया वो काफी चौंकाने वाला रहा क्योंकि उन्होंने वीरेंद्र सहवाग को सचिन से ज्यादा तरजीह दी। हालांकि उन्होंने इसके पीछे का कारण भी बताया कि सहवाग में  फैंस का मनोरंजन करने की जो काबिलियत थी और इसी वजह से वे सचिन से ज्यादा सहवाग को पसंद करते है।  

घरेलू क्रिकेट में 40 साल की उम्र के बाद भी दो दोहरे शतक लगाने वाले एकमात्र एशियाई बल्लेबाज वसीम जाफर ने बताया कि उनके इंटरनेशनल क्रिकेट करियर के दौरान उन्हें सबसे ज्यादा ब्रेट ली को फेस करने में परेशानी हुई। हालांकि उन्हें शोएब अख्तर और ब्रेट ली के तौर पर दो विकल्प दिए गए थे, लेकिन उन्होंने अख्तर से ज्यादा बेहतर गेंदबाज ब्रेट ली को बताया। आइसीसी द्वारा गेंद पर लार के इस्तेमाल को बैन किए जाने के बारे में वसीम ने कहा कि ये गेंदबाजों के लिए काफी मुश्किल होने जा रहा है क्योंकि गेंद को चमकाने के कोई अन्य तरीका उनके पास नहीं है। उन्होंने ये भी कहा कि इसका फायदा पूरी तरह से बल्लेबाजों को मिलेगा और उनके लिए खेलना और ज्यादा सरल हो जाएगा।  

आदित्य वर्मा का बड़ा बयान, आईसीसी में है कुशल नेतृत्व की आवश्यकता

एक साल के लिए बढ़ाया गया विदेशी कोचों का अनुबंध, नए कोचों के लिए हुए बड़ा ऐलान7 मैचों से बहार हुए जोएल मेटिप, जानिए क्यों

विश्व शतरंज चैम्पियनशिप हो सकती है 2021 तक के लिए स्थगित