विश्वासघात दिवस मनाना कांग्रेसियों को पड़ा महंगा

लखनऊ: मोदी सरकार के 4 साल पुरे होने पर शनिवार को जहाँ पीएम मोदी और बीजेपी के नेता, भाजपा सरकार का महिमामंडन करने में लगे थे, वहीं कांग्रेस इस दिन को विश्वासघात दिवस के रूप में मना रही थी. लेकिन केंद्र सरकार के खिलाफ विश्वासघात दिवस मनाना कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को महंगा पड़ गया, उत्तर प्रदेश पुलिस ने इस कार्य में जुटे सैकड़ों कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है.

जिन कांग्रेस नेताओं के खिलाफ केस दर्ज हुए हैं उनमें उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष राज बब्बर, कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय सिंह लल्लू, पूर्व राज्यसभा सांसद नसीमुद्दीन सिद्दीकी और राज्यसभा सांसद दीपक सिंह शामिल हैं. जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर अवैध तरीके से एकत्रित होने, लोगों को जबरन बंधक बनाने, सरकारी अधिकारी पर हमला करने और उसे अपने कर्तव्य पालन में बाधित करने तथा सावर्जनिक जीवन को खतरे में डालने के लिए आईपीसी की धाराओं 143, 341, 353, 283 के तहत ये केस दर्ज हुए हैं.

ये सारी एफआईआर राज्य की राजधानी लखनऊ के कैसरबाग थाने में दर्ज हुए हैं. राज्य के कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने इस घटना को लेकर एक ट्वीट भी किया है, जिसमे उन्होंने लिखा है कि "योगीजी की पुलिस की गर्मी, गरिमा लांघ गई, प्रदर्शन करते समय लखनऊ में हमें साथियों संग अकारण गिरफ्तार कर लिया, अधिवक्ता साथियों ने फिर उन्हें कानून पढ़ाया, धन्यवाद, बाद में अधिवक्ताओं के संगठन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अपनी बात रखने का अवसर मिला."

मोदी सरकार के 4 साल बनाम कांग्रेस का विश्वासघात दिवस

सचिन पायलट ने मोदी सरकार पर हमला बोला

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -