मजदूरों की सेवा करने के लिए आदिवासियों ने संभाला मैदान, मिटा रहे पेट की भूख

कोरोना संक्रमण को लेकर छत्तीसगढ़ की बात करें तो यहां भी बड़े शहरों से पलायन कर श्रमिकों का अपने गांवों को लौटना अनवरत जारी है. दो तरह की तस्वीरें देखने को मिल रही हैं. एक ओर तो जहां गांवों में इनके पहुंचने पर क्वारंटाइन केंद्रों में अव्यवस्था का आलम है, तो वहीं कुछ ग्रामीण प्रवासियों की मदद को आगे आ रहे हैं और इनसे हमदर्दी जता रहे हैं. साथ ही गांव में रहने वालों की सुरक्षा का पुख्ता प्रबंध भी कर रखा है. धनौली और करंगरा गांव के बैगा परिवार ऐसी ही मिसाल पेश कर रहे हैं.

आर्थिक मजबूती के लिए शिवराज सरकार शुरू करेगी 'आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश' अभियान

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि धनौली पंचायत के क्वारंटाइन केंद्र में बाहरी श्रमिकों को ठहराया गया है. इनमें महिला, पुरुष और बच्चे भी हैं. प्रवासियों को सुबह-शाम नाश्ता और भोजन कराने के अलावा क्वारंटाइन केंद्र को रोज सैनिटाइज करना इन बैगाओं के सेवाभाव और सूझबूझ को दर्शाता है. ग्राम पंचायत धनौली के अंतर्गत दो गांव आते हैं. धनौली और करंगरा. धनौली में बैगा जनजाति की आबादी 80 फीसद है. करंगरा में शत- प्रतिशत. बीते चार दिनों से इन गांवों का माहौल पूरी तरह से बदल गया है.

1 लाख के पार पहुंचा कोरोना संक्रमण, अस्पताल में 60 हजार से अधिक लोग करा रहे इलाज

अगर आपको नही पता तो बता दे कि बस्तियों से कुछ कदमों की दूरी पर बालिका छात्रावास है. जिला प्रशासन ने इसे बाहर से आए श्रमिकों के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाया है. इसमें प्रवासी श्रमिकों के अलावा बाहरी प्रांत के श्रमिकों को रखा गया है. बैगा परिवार पहले दिन से ही इनकी सहायता कर रहे हैं. श्रमिकों के आने से पहले छात्रावास को पूरी तरह सैनिटाइज कर दिया गया था. प्रवासियों के लिए सैनिटाइजर और मास्क की व्यवस्था भी पंचायत ने पहले से कर रखी थी.

उत्तरप्रदेश सरकार पर लगा मजदूरों की पीड़ा न समझने का आरोप, विपक्ष ने बोली यह बात

अब ऑनलाइन ऑर्डर देकर मंगवा सकेंगे इंदौरी नमकीन

मजदूरों से किराया न लेने की गुहार लगाते नजर आए सीएम योगी, राज्यों से कही यह बात

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -