इस 26 जनवरी झंडा वंदन से पहले जाने, क्यों मनाया जाता है ये राष्ट्रीय त्यौहार

मंगलवार को देश भर में धूम-धाम के साथ 26 जनवरी का राष्ट्रीय त्यौहार मनाया जायेगा। यह दिन हमारे देश के इतिहास में बहुत ही ख़ास है। इसी ख़ास दिन पर देश का संविधान लागु किया गया था। जिसे डॉ।भीमराव अम्बेडकर की अध्यक्षता वाली समिति ने लिखा था। आपको ये जानकार गर्व होगा की भारतीय संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। इस संविधान को लिखने में 2 वर्ष, 11 महिना, 18 दिन का समय लगा था। 26 जनवरी 1950 को इसे लागु करने के साथ ही भारत पूर्ण गणतंत्र देश बन गया था।

हर साल 26 जनवरी का ये राष्ट्रीय त्यौहार देश भर में मनाया जाता है। इस दिन नई दिल्ली के राजपद पर भव्य परेड का आयोजन किया जाता है। जिसमे देश के हर बड़ी हस्ती शामिल होती है। 26 जनवरी को होने वाली इस परेड में आर्मी, पुलिस BSF से लेकर देश की सेवा करने वाले हर जवान की टुकड़ियां चाहे वह महिला हो या पुरुष परेड करती नज़र आती है।

इस परेड में भारतीय राज्यो की अलग संस्कृति को भी चलित झांकी की मदद से दिखाया जाता है। इसके अलावा देश के हर सरकारी-गैरसरकारी कार्यालय, स्कूल-कॉलेज अदि जगहों पर झण्डाबन्दन कर इस त्यौहार को मनाया जाता है।

खत्म हुई दून-हरिद्वार-ऋषिकेश मार्ग की मुश्किलें, शुरू हुआ राज्य का सबसे लंबा फ्लाईओवर

मारुति सुजुकी ने किया 'मेड इन इंडिया' जिमनी फर्स्ट बैच का निर्यात

'वेतन और पेंशन लोगों का मौलिक अधिकार...' दिल्ली HC ने नगर निगम को लगाई फटकार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -