भारत का वो एकमात्र रेलवे स्टेशन, जहाँ जाने के लिए लेना पड़ता है पाकिस्तान का वीज़ा

नई दिल्ली: भारतीय रेल को देश की लाइफलाइन कहा जाता है. रेल देश के एक छोर से दूसरे छोर तक मुसाफिरों को उनके गंतव्य तक पहुंचाती है. देश में रेल की यात्रा बेहद किफायती भी है. बस टिकट बुक करिए और अपने सफर पर निकल जाइए. लेकिन, क्या आपने कभी सुना है कि इंडियन रेलवे से सफर करने के लिए किसी को पासपोर्ट और वीजा की आवश्यकता पड़ी हो. लेकिन, अपने ही देश के एक रेलवे स्टेशन पर जाने के लिए भारतीय नागरिकों को पाकिस्तानी वीजा लेना पड़ता है.

पाकिस्तान की बॉर्डर के सटा अटारी देश का एकमात्र ऐसा रेलवे स्टेशन है, जहां भारतीय नागरिकों को जाने के लिए वीजा की आवश्यकता पड़ती है. यहां नागरिकों के लिए पाकिस्तानी वीजा अनिवार्य कर दिया गया है. भारत-पाकिस्तान सीमा पर स्थित होने की वजह से अटारी रेलवे स्टेशन हमेशा सुरक्षा बालों के पहरे में रहता है. अगर कोई भी व्यक्ति यहां बगैर वीजा के पकड़ा जाता है, तो उसके खिलाफ 14 फॉरेन एक्ट के तहत केस दर्ज होता है. इस धारा के लगने के बाद जमानत भी बड़ी कठिनाई से ही मिलती है.

अटारी रेलवे स्टेशन से देश की सबसे VVIP ट्रेन समझौता एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई जाती है. इस रेलवे स्टेशन से रेलवे टिकट खरीदने वाले प्रत्येक यात्री के पासपोर्ट का नंबर लिखा जाता है और उसके बाद उन्हें सफर के लिए कंर्फम सीट दी जाती है. यदि अटारी रेलवे स्टेशन से ट्रेन किसी कारण लेट हो जाती है, तो इस संबंध में भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के रजिस्टर में इस बारे में दर्ज किया जाता है. पंजाब पुलिस रेलवे स्टेशन के चारों ओर पहरा देती है और यहां फोटोग्राफी करना प्रतिबंधित है.

मुंह में साढ़े 4 लाख का सोना छिपाकर ला रहा था तस्कर, बैंगलोर एयरपोर्ट पर धरया

10 महीने में 100 करोड़ टीकाकरण..., नड्डा बोले- भारत ने दिखाया अपना सामर्थ्य

अनुसूचित जनजातियों की सूची में वाल्मीकि और बोया समुदायों को करें शामिल: चंद्रबाबू नायडू

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -