बीते 10 वर्षों में तीन गुना बढ़ गई मध्यम वर्ग की आमदनी..! देखें SBI की रिसर्च रिपोर्ट

बीते 10 वर्षों में तीन गुना बढ़ गई मध्यम वर्ग की आमदनी..! देखें SBI की रिसर्च रिपोर्ट
Share:

नई दिल्ली: स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) की 'ITR फाइलिंग रिपोर्ट में उभरते रुझानों को समझना' (Deciphering Emerging Trends in ITR Filing Report) शीर्षक वाली रिसर्च के मुताबिक, मध्यम वर्ग के भारतीयों की औसत आय वित्तीय वर्ष 2012-13 (वित्त वर्ष 2013) में 4.4 लाख रुपये से बढ़कर वित्त वर्ष 22 में 13 लाख रुपये हो गई है। SBI की रिपोर्ट में इसके पीछे दो कारण बताए गए हैं - कई करदाता निम्न आय वर्ग से उच्च आय वर्ग में स्थानांतरित हो गए हैं, जिससे औसत में उछाल आया है और शून्य कर देनदारी वाले रिटर्न दाखिल करने वालों की संख्या में गिरावट आई है।

बीते 10 में कैसे बदला मध्यम वर्ग :-

बता दें कि, SBI की यह रिपोर्ट पिछले दस वर्षों में निम्न मध्यम वर्ग के उच्च आय स्तर में संक्रमण पर प्रकाश डालती है। इससे यह भी पता चला कि वित्त वर्ष 2011 में टैक्स रिटर्न दाखिल करने वाले 16 मिलियन लोगों में से लगभग 84% लोग 5 लाख रुपये तक के आय वर्ग से थे। हालाँकि, वित्त वर्ष 2012 तक 68.5 मिलियन ITR दाखिल करने वालों में से केवल 64% ही इस आय वर्ग से संबंधित थे। इसका मतलब है कि वित्त वर्ष 2012 तक लगभग 13.6 मिलियन लोग निम्न आय वर्ग को छोड़कर ऊपर की ओर चले गए थे।

रिपोर्ट में उजागर की गई एक और सकारात्मक बात यह है कि शून्य-कर देयता रिटर्न की संख्या में उल्लेखनीय गिरावट आई है, जिसका अर्थ है कि किसी व्यक्ति की कर योग्य आय मूल छूट सीमा से नीचे आती है और वह किसी भी कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी नहीं है। ऐसे ITR की हिस्सेदारी वित्त वर्ष 2011 में 84.10 प्रतिशत से घटकर वित्त वर्ष 2012 तक 64 प्रतिशत हो गई है। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि 2047 तक औसत आय भी बढ़कर 49.70 लाख रुपये होने की उम्मीद है, जिसका नेतृत्व अधिक कर दाखिल करने वालों के संयोजन और कर दाखिल करने वालों के वितरण में निम्न से उच्च आय वर्ग में बदलाव के कारण होगा।

इसमें आगे कहा गया है कि कम से कम 25% ITR दाखिल करने वालों के वित्त वर्ष 2047 तक सबसे कम आय वर्ग (5 लाख रुपये तक की वार्षिक आय) छोड़ने की उम्मीद है। भारतीय कार्यबल के वित्त वर्ष 2013 में 530 मिलियन से बढ़कर वित्त वर्ष 47 तक 725 मिलियन तक पहुंचने की उम्मीद है, जिसका मतलब है कि कर दाखिल करने वालों की संख्या में वृद्धि होगी, जो वित्त वर्ष 2013 में 70 मिलियन से बढ़कर वित्त वर्ष 47 तक 482 मिलियन हो जाने की उम्मीद है।

मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने घोषित किए उम्मीदवार, यहाँ देखिए पूरी सूची

'सीएम योगी के नेतृत्व में 1 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनेगा यूपी..', JNU में जनरल वीके सिंह का दावा

'अदालत के बाहर समझौते का सवाल ही नहीं..', ज्ञानवापी मामले पर बोले वकील विष्णु शंकर जैन

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -