गौरी लंकेश हत्याकांड की जांच करने वाली SIT ही देखेगी कुलबुर्गी हत्याकांड- सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली: शीर्ष अदालत ने स्कॉलर एम.एम कलबुर्गी हत्याकांड की जांच गौरी लंकेश मर्डर मामले की जांच करने वाली एसआइटी (SIT) को  दे दी है। अदालत के आदेश पर जांच की निगरानी कर्नाटक उच्च न्यायालय की धारवाड़ बेंच करेगी। दरअसल, कलबुर्गी की विधवा पत्नी उमा देवी ने शीर्ष अदालत में अपनी याचिका दाखिल करते हुए मामले की जांच एसआइटी से कराने की मांग की थी। उमा देवी ने कर्नाटक पुलिस पर आरोप लगाया था कि वे ठीक तरह से मामले की जांच नहीं कर रही है। उन्होंने कहा था कि एसआइटी की जांच सर्वोच्च न्यायालय या उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश की अध्यक्षता में की जानी चाहिए।

भारतीय वायुसेना ने पीओके में की एयर स्ट्राइक, आनंद महिंद्रा ने किया भावुक ट्वीट

उल्लेखनीय है कि 77 वर्षीय कलबुर्गी की धारवाड़ स्थित उनके घर में 30 अगस्त, 2015 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जबकि गौरी लंकेश की पांच सितंबर, 2017 घर के बाहर गोली मारकर हत्या की गई थी। गौरी लंकेश हत्याकांड की जांच में अहम् तथ्य उजागर हुआ था। उनकी हत्या उसी पिस्तौल से की गई थी, जिससे नस्लभेद विरोधी एम.एम कालबुर्गी की हत्या की गई थी। यह जानकारी प्रदेश की फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी की जांच से प्रकाश में आई थी।

डॉलर के मुकाबले कमजोरी के साथ खुला रुपया

जांच टीम ने पूर्व में एक ही पिस्तौल से दोनों हत्याएं किए जाने पर संदेह जाहिर किया था। दोनों हत्याओं के पीछे किसी एक गिरोह का हाथ होने का संदेह पुलिस को है। दोनों ही हत्याओं में 7.65 एमएम कैलीबर वाली देशी पिस्टल का इस्तेमाल किया गया था। उसकी फायरिंग पिन के कारतूस पर समान निशान के मद्देनज़र यह पुष्टि की गई थी।

खबरें और भी:-

कल दुबई में होगी वर्ल्ड कप को लेकर अहम बैठक, कई मुद्दों पर चर्चा संभव

भारत की कार्यवाही से खौफ में पाकिस्तानी निवेशक, 400 अंक टूटा सेंसेक्स

युवाओं के लिए इस संस्था में नौकरियां, वेतन 25 हजार रु

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -