कोरोना वायरस को लेकर अध्ययन में हुआ ये बड़ा खुलासा

कोरोना वायरस को लेकर अध्ययन में हुआ ये बड़ा खुलासा

स्टेम सेल ट्रांसलेशनल मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, गंभीर रूप से बीमार कोरोना रोगियों को गर्भनाल संयोजी ऊतक से गैर-परिवर्तित स्टेम कोशिकाओं के साथ इलाज किया गया था, जिनके पास इलाज नहीं था, उनके जीवित रहने की संभावना दोगुनी थी। इंडोनेशिया के जकार्ता के चार अस्पतालों में किए गए नैदानिक परीक्षण से यह भी पता चला है कि मधुमेह, उच्च रक्तचाप या गुर्दे की बीमारी जैसी अतिरिक्त पुरानी स्वास्थ्य स्थिति वाले कोरोना रोगियों को उपचार देने से उनकी उत्तरजीविता चार गुना से अधिक बढ़ गई। 

डबल-ब्लाइंड, नियंत्रित, यादृच्छिक अध्ययन में भाग लेने वाले सभी 40 रोगी गहन देखभाल में वयस्क थे, जिन्हें कोरोना प्रेरित निमोनिया के कारण इंटुबैट किया गया था। आधे लोगों को गर्भनाल मेसेनकाइमल स्ट्रोमल कोशिकाओं, या मानव जन्म की हड्डी के संयोजी ऊतक से प्राप्त स्टेम कोशिकाओं से युक्त अंतःशिरा संक्रमण दिया गया था, और आधे को उनके बिना जलसेक दिया गया था। सिप्टो मंगुनकुसुमो सेंट्रल हॉस्पिटल-यूनिवर्सिटास के प्रोफेसर इस्माइल हादिसोएब्रोटो दिलोगो ने कहा, "स्टेम सेल प्राप्त करने वालों की जीवित रहने की दर 2.5 गुना अधिक थी और इससे भी अधिक - 4.5 गुना -कोरोना रोगियों में, जिनके पास अन्य पुरानी स्वास्थ्य स्थितियां थीं।

पिछले नैदानिक परीक्षणों से पता चला है कि गर्भनाल संयोजी ऊतक से स्टेम सेल के साथ कोरोना निमोनिया के रोगियों का इलाज करने से उन्हें जीवित रहने और अधिक तेज़ी से ठीक होने में मदद मिल सकती है, लेकिन इंडोनेशियाई अध्ययन इंटुबैटेड, गंभीर रूप से बीमार कोरोना निमोनिया के रोगियों का इलाज करने वाला पहला है।

तमिलनाडु में म्यूकोर्मिकोसिस से 1000 लोग हुए प्रभावित: स्वास्थ्य मंत्री

खाद्य जनित बीमारियों से देश को हर साल हो रहा 15 अरब डॉलर का नुकसान - डॉ हर्षवर्धन

ओडिशा के इस हॉस्पिटल के स्वास्थ्य कर्मियों ने COVID-19 मरीजों के कटवाए दाढ़ी और बाल