यहाँ सवा सौ एकड़ जमीन के मालिक है 'श्रीकृष्ण'

जबलपुर/ कार्तिक गुप्ता की रिपोर्ट:- भगवान श्रीकृष्ण की अनेक कहानियां उदाहरण देश भर के कोने-कोने में सुनने को मिल जाती है। लेकिन आज हम जन्माष्टमी के मौके पर एक ऐसे गांव की बात करने जा रहे हैं जहां के मालगुजार खुद भगवान श्रीकृष्ण है जिनका पूरा परिवार विधानसभा पाटन स्थित मझौली के पास पटोरी गांव में मौजूद है। जहां भगवान कई एकड़ जमीन के खुद मालिक है इतना ही नही मंदिर में विराजे मालगुजार श्रीकृष्ण के दर्शन करने दूर दूर से भक्त भी ग्राम पटोरी पहुँचते है। क्या है पूरा मामला और क्यो कहा जाता है श्रीकृष्ण को गांव का मालगुजार जानने के लिए देखिए जबलपुर से आई ये खास रिपोर्ट...

जबलपुर से 45 किलोमीटर दूर ये है ग्राम पंचायत पटोरी, इस ग्राम पंचायत पटोरी में स्थित है राधा कृष्ण का अनोखा मंदिर, जिसे पूरे मध्य प्रदेश में मालगुजार का मंदिर नाम से जाना जाता है। पटोरी गांव में भगवान श्रीकृष्ण की मालगुजारी चलती है यहां राधा-कृष्ण भगवान का विशाल मंदिर हैं मंदिर में विराजमान भगवान कृष्ण के नाम पर करीब सवा सौ एकड़ जमीन है जिसका संचालन राधा कृष्ण मंदिर ट्रस्ट के नाम से किया जाता है। कहते है कि राधा-कृष्ण मंदिर की नींव रखने वाली मझौली की द्रोपदी बाई मिश्राईन पति गंगा प्रसाद मिश्रा की कोई संतान नहीं थी। 1923 में मिश्रा दंपत्ति ने कटंगी में भव्य तुलसी-शालिगिराम विवाह कराया जिसमें देश भर के साधु संत शामिल हुए थे इतना ही नही पटोरी गांव में किसी भी प्रकार का आयोजन हो सबसे पहले भगवान श्री कृष्ण को ही निमंत्रण दिया जाता है। मंदिर के पुजारी संत कुमार मिश्रा बताते हैं कि ग्रामीण मंदिर में निमंत्रण कार्ड भेजते हैं निमंत्रण भेजने की यह परंपरा करीब 96 वर्षों से चली आ रही है गांव में भोज होने की स्थिति में भी मंदिर में भगवान को निमंत्रण दिया जाता है ऐसे अवसर पर मंदिर के पुजारी भगवान की ओर से भोज में शामिल होते हैं।

भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव भादों की अष्टमी को मंदिर में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दौरान भगवान को झूले पर बिठाया जाता है ग्रामीण इस झूले को झुलाते हैं और मुहूर्त पर ही यहां जन्मोत्सव मनाया जाता है जोकि मध्य रात्रि तक ग्रामीण भजन-कीर्तन करते हैं खुशी से झूम उठते हैं और एक दूसरे को गले लगकर शुभकामनाएं देते हुए अपने मालगुजार यानी श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाते है जिस वजह से ही पूरे मध्य प्रदेश पटोरी गांव को मालगुजार श्रीकृष्ण के नाम से जाना जाता है।

'ग्रेजुएट चायवाली' के ठेले पर नगर निगम ने चलाया था बुलडोजर, अब मिला वापस

न्यूयॉर्क टाइम्स ने की AAP की तारीफ या केजरीवाल ने पैसे देकर छपवाया 'विज्ञापन' ?

भूकंप के झटकों से एक बार फिर डोली उत्तराखंड की धरती, हुआ ये हाल

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -