पीठ पर वार कर राजनीति नहीं करती शिवसेना

मुंबई : महाराष्ट्र में शिवसेना ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा है कि वह पीठ में वार करने वालों की औलाद नहीं है। दरअसल इस मामले में शिवसेना ने सामना में संपादकीय लेखन किया है। शिवसेना ने कहा कि वह ऐसा नहीं करती है कि किसी की बदनामी करवाए और राजनैतिक रोटियां सेंके। शिवसेना में लिखे गए संपादकीय लेख में पूर्व मंत्री को एक देशभक्त कहा गया। उसने यह लिखा कि खड़से पर विभिन्न आरोप लगाए गए हैं। मगर उन पर दाऊद से संबंध होने का आरोप मानने लायक नहीं है।

दरअसल इस मामले में खडसे की देशभक्ति पर यह मामला एक तरह से कलंक लगाने जैसा ही है। इस मामले में सामना में संपादकीय में लिखा गया है कि जलगांव के कार्यकर्ता सम्मेलन में खडसे ने मन हल्का कर लिया। खडसे ने जलगांव में कहा था कि सही समय आने पर इन गांठों को खोल दिया जाएगा। ऐेसे में पूरे देश में हड़कंप मच जाएगा। एकनाथ खडसे ने चेतावनी देते हुए था कहा कि इससे भविष्य में इससे छोटा महाभारत हो सकता है। इस बात से कोई भी अलग मत नहीं रख सकता है।

शि‍वसेना ने आगे लिखा कि खडसे इस बात का दुख नहीं है कि जलगांव में शिवसैनिकों ने खुशी मनाई, दुख इस बात का है कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ता अधिक खुश थे। उन्होंने कहा कि यदि शिवसेना का मुख्यमंत्री बनता तो फिर खडसे के साथ कम से कम ऐसा तो नहीं होता। शिवसेना किसी के पीठ पर वार करने वाले की औलाद नहीं है। लेख में लिखा कि किसी की भी बदनामी करवाकर शिवसेना राजनीतिक लाभ नहीं उठाती।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -