अपने मस्तमौला अंदाज के लिए मशहूर थे शम्मी

या हु चाहे कोई मुझे जंगली कहे... जैसे कई गीत जब भी बजते हुआ सुनाई देते है, बरबस ही बेफिक्री , मस्तमौला अभिनेता शम्मी कपूर याद आते हैं. हिंदी सिनेमा जगत में शम्मी कपूर ऐसे अभिनेता रहे हैं, जिन्होंने उमंग और उत्साह के भाव को बड़े पर्दे पर बेहद रोमांटिक अंदाज में पेश किया. आज शम्मी कपूर का जन्मदिन है शम्मी कपूर को दुनिया से विदा हुए पूरे तीन साल हो गए हैं, लेकिन आज भी शम्मी कपूर को उनके फेन्स भुला नहीं पाये है. शम्मी कपूर ऐसे कलाकार थे, जो बॉलीवुड में बदलाव की बयार लेकर आए.

उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में जमे-जमाए अभिनेताओं की तरह एक जैसे किरदारों को निभाने के बजाय, हमेशा नए प्रयोग किए. 21 अक्टूबर 1931 को मुंबई में जन्में शम्मी कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर फिल्म इंडस्ट्री के महान अभिनेता थे. घर में फिल्मी माहौल होने पर शम्मी कपूर का रूझान भी अभिनय की ओर हो गया और वह भी अभिनेता बनने का ख्वाब देखने लगे.

साल 1953 में रिलीज फिल्म जीवन 'ज्योति' से बतौर अभिनेता शम्मी कपूर ने बॉलीवुड में कदम रखाजीवन की मस्ती को अपने किरदारों से जीवंत करने वाले शम्मी कपूर की फिल्मों पर नजर डालें तो लगेगा कि जैसे उन पर फिल्माए गीतों में गायकी-संगीत संयोजन और गीत के बोलों में मस्ती की भावना पिरोई जाती थी.

दिलचस्प बात यह है कि शम्मी कपूर को रिबेल स्टार (विद्रोही कलाकार) की उपाधि दी गयी, ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने उदासी, मायूसी और देवदास नुमा अभिनय की परम्परागत शैली को बिल्कुल नकार कर अपने अभिनय की नयी शैली से लोगो का दिल जित लिया.

14 अगस्त 2011 को शम्मी कपूर का मुम्बई में निधन हो गया. अपने करियर में शम्मी ने 50 से भी अधिक फिल्मो में बतौर अभिनेता काम किया. वही 20 फिल्मो में वे सहायक अभिनेता के तौर पर दिखाई दिए.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -