सेंसेक्स 150 अंक फिसला, देखिये आज कौन सा शेयर रहा टॉप पर

भारतीय बाजार सूचकांकों ने बुधवार  को अपनी चार सत्रों की जीत की लकीर को समाप्त कर दिया और नकारात्मक वैश्विक संकेतों पर तेजी से कारोबार में निचले स्तर पर रहे। कल एक खराब वॉल स्ट्रीट सत्र के बाद, एशियाई बाजारों में आज गिरावट आई क्योंकि निवेशक आशावाद अमेरिकी उपभोक्ता विश्वास डेटा द्वारा कम हो गया था, जिसने संभावित मंदी के बारे में चिंताओं को भी बढ़ा दिया था।

30 पैक सूचकांक एक डाउनबीट वैश्विक भावना पर 150 अंक या 0.28 प्रतिशत की गिरावट के साथ 53,027 पर बंद हुआ। इस बीच निफ्टी50 इंडेक्स 51 अंक या 0.32 फीसदी की गिरावट के साथ 15,799 पर बंद हुआ है। 4.5 प्रतिशत तक की गिरावट के साथ मुख्य पिछड़ने वाले एचडीएफसी लाइफ, एचयूएल, अपोलो अस्पताल, एक्सिस बैंक, टाटा उपभोक्ता उत्पाद, बजाज फिनसर्व और यूपीएल थे।

बीएसई स्मॉलकैप इंडेक्स ओवरऑल बाजारों में लाल निशान में थोड़ा ऊपर बंद हुआ, जबकि बीएसई मिडकैप इंडेक्स में 0.7% की गिरावट आई। निफ्टी ऑयल एंड गैस इंडेक्स को छोड़कर ज्यादातर इंडेक्स अपने-अपने सेक्टर्स (0.9 फीसदी ऊपर) में गिरे। निफ्टी के आईटी, बैंक और एफएमसीजी इंडेक्स में 1% से ज्यादा की गिरावट आई है।

प्रमुख निफ्टी लूजर एचडीएफसी लाइफ था, जिसका शेयर 4.67 प्रतिशत गिरकर 539.50 पर आ गया। अन्य हारे हुए लोगों में हिंदुस्तान यूनिलीवर, अपोलो हॉस्पिटल्स, एक्सिस बैंक और टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स शामिल थे। बीएसई के 1,518 शेयरों में तेजी आई जबकि 1,784 में गिरावट आई, जिसके परिणामस्वरूप कुल बाजार में नकारात्मक वृद्धि हुई।
बीएसई के 30 शेयरों वाले सूचकांक में एशियन पेंट्स, एसबीआई, इंफोसिस, एचयूएल, एक्सिस बैंक, बजाज फिनसर्व, विप्रो, एचसीएल टेक, टाइटन, कोटक महिंद्रा बैंक और आईसीआईसीआई बैंक सबसे ज्यादा नुकसान में रहे।

दक्षिण कोरिया में महंगाई 10 साल के उच्चतम स्तर पर

अमेरिकी अर्थव्यवस्था में मंदी के आसार से वैश्विक शेयर मार्केटों में भारी गिरावट

विपक्ष शासित राज्यों ने लगाया निर्मला सीतारमण पर आरोप,दे दी चेतावनी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -