कोविड-19 की दूसरी लहर से भारतीय कंपनियों के लिए आय वसूली में होगी देरी: मूडीज

रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने मंगलवार को एक नोट में कहा कि भारत में कोरोनोवायरस संक्रमण की दूसरी गंभीर लहर निकटवर्ती आर्थिक सुधार को धीमा कर देगी और लंबी अवधि के विकास की गतिशीलता को प्रभावित कर सकती है। इसमें कहा गया है, 'अगर महामारी की दूसरी लहर अधिक प्रबंधनीय स्तरों तक नहीं गिरती है और लंबे समय तक और व्यापक लॉकडाउन का परिणाम होता है, तो इसका कंपनियों की कमाई में सुधार पर अधिक गंभीर प्रभाव पड़ेगा। 

भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के पुनरुत्थान के कारण क्षेत्रीय तालाबंदी हुई है, जो हाल के महीनों में देखी गई रेटेड कंपनियों की कमाई में सुधार पर ब्रेक लगाएगी। राष्ट्रीय और राज्य-स्तरीय लॉकडाउन में ढील के बाद अक्टूबर 2020 से आय में वृद्धि का रुझान देखा गया है। लेकिन कई राज्यों में नए सिरे से प्रतिबंध वस्तुओं और सेवाओं की मांग को कमजोर करेंगे और हाल के सुधार पथ को बाधित करेंगे। यह उम्मीद करता है कि आर्थिक गतिविधियों पर नकारात्मक प्रभाव जून तिमाही तक सीमित रहेगा, और अर्थव्यवस्था वर्ष की दूसरी छमाही में पलटाव करेगी। 

हालांकि, यदि संक्रमण अधिक प्रबंधनीय स्तरों तक कम करने में विफल रहता है, तो लॉकडाउन लंबा हो सकता है और दायरे में वृद्धि हो सकती है। यह स्थिति रेटेड कंपनियों की कमाई को गंभीर रूप से कमजोर कर देगी और पिछले छह महीनों में देखी गई वसूली को पटरी से उतार देगी। व्यापक आवाजाही प्रतिबंध परिवहन ईंधन की मांग को कम करेगा और तेल शोधनकर्ताओं के लिए क्षमता उपयोग को कम करेगा।

बिहार: कार में लड़की के साथ किया सामूहिक दुष्कर्म

अस्पतालों में परीक्षण और तत्काल रिपोर्ट देने के लिए अस्पतालों में ली जा रही रिश्वत

कोरोना नियमों का उल्लंघन कर कब्रिस्तान में पढ़ी नमाज, 50 लोगों पर केस दर्ज

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -