मध्यप्रदेश: सितंबर से खोले जा सकते हैं स्कूल लेकिन करना होगा इन 6 सख्त चरणों का पालन!

कोरोना को देखते हुए स्कूल को बंद रखने का फैसला लिया गया था. ऐसे में अब तक स्कूल नहीं खुल पाए. वहीं मिली जानकारी के मुताबिक़ आने वाले सितंबर से स्कूल खुलने की संभावना है. जी हाँ, वहीं अब मिली जानकारी के मुताबिक विभाग प्रारूप को अंतिम रूप देने में कार्यरत है. इस समय तो आप जानते ही होंगे कि ऑनलाइन पढ़ाई कराई जा रही है. इसी बीच स्कूल खोलने के लिए गाइडलाइन तैयार हो रही है. बताया गया है कि छह चरणों के प्रारूप के तहत इस साल स्कूल खुल जाएंगे. वहीं स्कूल में न तो प्रार्थना सभा होगी और ना ही वार्षिकोत्सव मनाया जा सकेगा. इसके अलावा स्कूल शिक्षा विभाग प्रदेश के स्कूलों को खोलने को लेकर गाइडलाइन तैयार कर शासन से अनुमति लेने के लिए प्रारूप तैयार करने के बाद भेजा है. आपको बता दें कि विभाग ने अपनी गाइडलाइन का ड्राफ्ट शासन को सौंप दिया है. वहीं इसके अनुसार स्कूल खुलने पर पढ़ाई का सिलसिला कैसे शुरू होगा और विद्यार्थियों, अभिभावक व शिक्षकों के लिए किन बातों का ध्यान रखना जरूरी होगा वह इसमें लिखा है. आपको बता दें कि विभाग ने सम व विषम संख्या में विद्यार्थियों को बांटकर एक दिन छोड़कर बुलाये जाने के बारे में कहा है.

इन 6 चरणों में हो सकती है पढ़ाई-

- पहले चरण में 11वीं और 12वीं की कक्षाएं शुरू की जा सकती है.

- एक हफ्ते बाद नौवीं और दसवीं की पढ़ाई शुरू की जा सकती है.

- तीसरे चरण में दो हफ्ते बाद छठी से लेकर आठवीं तक की कक्षाएं शुरू हो सकती हैं.

- इसके तीन हफ्ते बाद तीसरी से लेकर पांचवीं तक की पढ़ाई हो सकती हैं.

- पांचवां चरण पहली और दूसरी कक्षाओं की शुरुआत के लिए हो सकता है.

- छठे चरण में पांच हफ्ते बाद अभिभावकों की मंजूरी के साथ नर्सरी व केजी की कक्षाएं शुरू हो सकती हैं.

- कंटेनमेंट जोन के स्कूल ग्रीन जोन बनने तक बंद ही रह सकते हैं.

होम वर्क अधिक - इसके अलावा विभाग ने प्रारूप में यह तय किया है कि कक्षा में विद्यार्थियों के बीच 6 फीट की दूरी जरूरी होगी. इसी के साथ एक कमरे में 15 या 20 विद्यार्थी होंगे और विद्यार्थियों को सम-विषम के आधार पर बुलाए जाएंगे. वहीं सभी को गृह कार्य प्रतिदिन देना होगा और कोई भी विद्यार्थी अपनी सीट नहीं बदल सकता है. डेस्क पर सभी का नाम लिखाना होगा. इसके अलावा कक्षा को रोजाना सैनिटाइज करना होगा. इसी के साथ स्कूल में प्रवेश से पहले विद्यार्थियों और स्टाफ की स्क्रीनिंग होगी और स्कूल के बाहर खाने-पीने के स्टॉल नहीं लगा सकते हैं. इसी के साथ विद्यार्थियों के लिए कॉपी, पेन, पेंसिल या खाना शेयर करने के लिए मना कर दिया जाएगा. सभी को अपना पानी लाना होगा और हर एक के लिए मास्क पहनना जरूरी होगा. 

झमाझम बारिश से हुई मध्यप्रदेश के इन क्षेत्रों में सुबह की शुरुआत

तिरुपति ट्रस्ट ने की वित्त मंत्री से दान में आए पुराने नोटों को बदलने की गुजारिश, क्या होगा फैसला?

जानिए कुल कितना पैसा है अंबानी के पास, अब बने दुनिया के छठे सबसे अमीर आदमी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -