+

राजकुमार राव: सोचने पर मजबूर करती है ‘अलीगढ’

राजकुमार राव: सोचने पर मजबूर करती है ‘अलीगढ’

मुद्दा आधारित फिल्मो के लिए मशहूर निर्देशक हंसल मेहता की नयी फिल्म ‘अलीगढ’ शुक्रवार कों रिलीज़ हुई. इसके साथ ही फिल्म की हर जगह तारीफ बटोर रही है. कंगना रनोट ने तो फिल्म को पिछले एक दशक की सर्वश्रेष्ट फिल्म कहा है. फिल्म वाकई शानदार है. फिल्म में समलैंगिकता  के मुद्दे को बड़ी सरलता के साथ उठाया है. राजकुमार राव ने फिल्म मे दीपू नामक पत्रकार की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. राजकुमार ने कहा है की, “फिल्म हर तरह से बेहतरीन है. फिल्म देखने के बाद आप अपने आप को समलैंगिकता के मुद्दे की गहराइयों मे पाएंगे. फिल्म हर दर्शक को इस मुद्दे पर सोचने के लिए मजबूर करती है.

सच्ची घटना पर आधारित यह फिल्म समलैंगिकता के मुद्दे को बड़ी सरलता से उठाती है. अंत मे फिल्म आपको सोचने के लिए एक मुद्दा देती है. फिल्म मे मनोज वाजपेयी ने अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के एक बुजुर्ग प्रोफेसर श्रीनिवास रामचंद्र सिरस का शशक्त किरदार निभाया है. जिन्हें 2010 में अपने समलैंगिक रुझान के चलते विश्वविद्यालय से निकल दिया गया था. यह कदम सिरस को एक रिक्शेवाले के साथ शारीरिक सम्बन्ध होने का दोषी पाये जाने पर उठाया था.