राजस्थान का गौरव बने मामे खान, कांस फिल्म फेस्टिवल में लगाए वन्दे मातरम के नारे

नई दिल्ली: फ्रांस में 75वाँ कांस फिल्म फेस्टिवल 17 मई से आरंभ हो गया है, जो 28 मई तक जारी रहेगा। यह बेहद गर्व की बात है कि इस साल के महोत्सव में भारत एक नई ऊर्जा, शक्ति और ताकत के साथ उभरकर सामने आया है। फिल्म फेस्टिवल भारत के लिए कई मायनों में खास है, क्योंकि इस कार्यक्रम में भारत को 'कंट्री आफ ऑनर' के लिए आधिकारिक तौर पर आमंत्रित किया गया है। हालाँकि, यह रिवाज इस साल से ही आरंभ हुआ है और पहला मौका भारत को मिला है। इसके साथ ही राजस्थान की धरती भी गौरव के क्षणों से रंग गई है, क्योंकि राजस्थान के जाने माने लोक कलाकार मामे खान ने फेस्टिवल में शामिल होकर इतिहास रच दिया है।

मामे खान 75वें कांस फिल्म फेस्टिवल में भारतीय दल की अगुवाई करने वाले पहले लोक कलाकार बन गए हैं। मामे रेड कार्पेट पर मंगलवार को अपनी पारंपरिक पोशाक में दिखाई दिए, जिसे देखकर उनके लुक और ड्रेस की जमकर चर्चा हो रही है। वे राजस्थान के पहले कलाकार हैं, जिन्हें रेड कारपेट पर चलने का सम्मान प्राप्त हुआ है। इस सम्मान से उत्साहित राजस्थान के राजनेताओं ने देश के अपने माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म, Koo ऐप पर मामे को शुभकामनाएँ देते हुए इसे भारत के लिए गौरव का क्षण बताया है।

केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने रंगीले राजस्थान के लोक गायक को शुभकामनाएँ देते हुए लिखा है कि, 'प्रतिष्ठित कांस फिल्म फेस्टिवल को हमारे रंगीले राजस्थान के सुरों की तान से झंकृत कर देने वाले लोक गायक सम्माननीय मामे खान जी पर हमें गर्व है। आप कांस के रेड कार्पेट पर कदम रखने वाले पहले भारतीय लोक कलाकार हैं। आपकी उपलब्धि का मायना है कि विश्व हमारी संस्कृति से जुड़ी धुनों को सुनकर आनंदित होता है। आपने भारतीयता का मान बढ़ाया है।'

 

Koo App
प्रतिष्ठित कांस फिल्म फेस्टिवल को हमारे रंगीले राजस्थान के सुरों की तान से झंकृत कर देनेवाले लोक गायक सम्माननीय मामे खान जी पर हमें गर्व है। आप कांस के रेड कार्पेट पर कदम रखने वाले पहले भारतीय लोक कलाकार हैं। आपकी उपलब्धि का मायना है कि विश्व हमारी संस्कृति से जुड़ी धुनों को सुनकर आनंदित होता है। आपने भारतीयता का मान बढ़ाया आपकी #Rajasthan #IndiaAtCannes - Gajendra Singh Shekhawat (@gssjodhpur) 18 May 2022

अगली पोस्ट में आप देख सकते हैं कि मामे के गाने पर लोग अपने पैरों को थिरकने से रोक नहीं पा रहे हैं। वहीं, मामे ने फ्रांस में वन्दे मातरम के नारे लगाए हैं। केंद्रीय संसदीय कार्य और संस्कृति राज्य मंत्री, अर्जुन राम मेघवाल ने Koo करते हुए कहा है कि, 'प्रसिद्ध लोक गायक व संगीतकार मामे खान जी द्वारा कान्स फिल्म फेस्टिबल में परफॉर्म करना हम सभी के लिए गौरव की बात है। रेड कार्पेट पर लोकगीत की प्रस्तुति देने वाले पहले लोक कलाकार के रूप में मामे खान ने भारत-पवेलियन के उद्घाटन के अवसर पर अपनी गायकी से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।'

 

Koo App
प्रसिद्ध लोक गायक व संगीतकार मामे खान जी द्वारा कान्स फिल्म फेस्टिबल में परफॉर्म करना हम सभी के लिए गौरव की बात है।रेडकार्पेट पर लोकगीत की प्रस्तुति देने वाले पहले लोक कलाकार के रूप में मामे खान ने भारत-पवेलियन के उद्घाटन के अवसर पर अपनी गायकी से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। - Arjun Ram Meghwal (@ArjunRamMeghwal) 18 May 2022

 
राजस्थानी लोक संगीत की विशिष्टता बताते हुए लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने मामे को बधाई देते हुए लिखा है कि, 'राजस्थानी लोक संगीत की सदा से अपनी एक विशिष्ट पहचान रही है। अंतरराष्ट्रीय कांस फिल्म फेस्टिवल में प्रतिनिधित्व कर मामे खान जी ने मरुभूमि की लोक संस्कृति और भारतीय कला-कौशल को अधिक समृद्ध बनाया है। इस गौरवमयी उपलब्धि पर मामे खान जी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।'

 

वहीं, राजस्थान की भाजपा नेता दीया कुमारी कू करते हुए कहती हैं कि, 'प्रतिष्ठित कांस फिल्म फेस्टिवल में राजस्थानी लोकगीत गायक मामे खान जी द्वारा लोकगीतों की प्रस्तुति देना देश व प्रदेशवासियों के लिए गौरव की बात है। मामे खान जी ने मरुभूमि की लोक संस्कृति और भारतीय कला-कौशल को अंतरराष्ट्रीय मंच पर और अधिक समृद्ध बनाया है। इस गौरवमयी उपलब्धि पर आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।'

 

Koo App
प्रतिष्ठित कांस फिल्म फेस्टिवल में राजस्थानी लोकगीत गायक मामे खान जी द्वारा लोकगीतों की प्रस्तुति देना देश व प्रदेशवासियों के लिए गौरव की बात है। मामे खान जी ने मरुभूमि की लोक संस्कृति और भारतीय कला-कौशल को अंतरराष्ट्रीय मंच पर और अधिक समृद्ध बनाया है। इस गौरवमयी उपलब्धि पर आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। #CannesFilmFestival2022 - Diya Kumari (@diyakumariofficial) 19 May 2022

 
जैसलमेर से ताल्लुक रखते हैं मामे खान

 

बता दें मामे खान राजस्थान के जैसलमेर के एक छोटे से गाँव सत्तों के निवासी हैं। वे राजस्थान के मांगणियार समुदाय से आते हैं। यह समुदाय अपने लोक संगीत के लिए मशहूर है। बचपन से ही मामे संगीत के माहौल में पले-बढे हैं। बारह वर्ष की आयु में इन्होंने अपना पहला म्यूजिक शो दिल्ली में इंडिया गेट पर किया था। राजस्थान में वे अपने पिता के साथ विवाह समारोह में भी जाकर गाया करते थे। अपनी सुरीली आवाज से सबका मन मोहने वाले मामे खान को पद्मश्री अवॉर्ड से भी नवाज़ा जा चुका है।

गजब का संयोग

जहाँ एक तरफ भारत अपनी आज़ादी का 75वाँ वर्ष मना रहा है, वहीं भारत और फ्रांस के राजनयिक संबंधों को भी 2022 में 75वर्ष पूरे हो रहे हैं। और तो और कांस फिल्म फेस्टिवल का भी यह 75वाँ साल है। पीएम नरेंद्र मोदी ने भी कांस के शुरू होने से पहले वहाँ हिस्सा लेने जा रहे तमाम सेलेब्स और उनकी टीम को शुभकामनाएँ दीं थीं। पीएम मोदी ने कहा कि यह संयोग ही है कि भारत-फ्रांस संबंधों के 75 वर्ष, आज़ादी के 75 वर्षों और कांस फिल्म फेस्टिवल एक साथ मनाए जा रहे हैं।

पिता सनी ने बेटे को गिफ्ट की नई कार, कीमत उड़ा देगी आपके होश

मल्टीकलर बिकिनी पहन कर विहान संग पूल में मस्ती करती हुई दिखाई दी सलमान की भांजी

मार्च माह में बॉक्स ऑफिस पर हुआ इतने करोड़ का कारोबार

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -