मात्र 13 साल की उम्र में इस शख्स पर फ़िदा हो गई थी प्रियंका गाँधी

मात्र 13 साल की उम्र में इस शख्स पर फ़िदा हो गई थी प्रियंका गाँधी

नई दिल्ली: राजनीति में आधिकारिक एंट्री के बाद से प्रियंका गांधी वाड्रा सुर्ख़ियों में बनी हुई हैं, किन्तु आज वैलेंटाइन डे के दिन हम आपको उनकी प्रेम कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं। प्रियंका जब 13 वर्ष की थीं तब वे पहली बार रॉबर्ट वाड्रा से मिली थीं। पहली ही मुलाकात में रॉबर्ट, प्रियंका की सादगी पर फ़िदा हो गए थे। धीरे-धीरे दोनों के बीचचीत का दौर शुरु हुआ और प्रियंका को भी वाड्रा पसंद आने लगे। दोनों का रिश्‍ता दोस्‍ती से शुरु हुआ और फिर धीरे धीरे प्‍यार तक पहुंच गया।

भाजपा ने शिवसेना को दी सीधी टक्कर, गठबंधन को लेकर कोई नहीं जाएगा उद्धव के घर

अपने एक इंटरव्‍यू में रॉबर्ट ने खुद बताया था कि ‘ मैं नहीं चाहता था कि प्रियंका और मेरे इस रिश्‍ते के बारे में कोई जाने, क्‍योंकि लोग इसे समझ नहीं पाते तथा कुछ और ही रूप दे देते।‘ प्रपोज़ करने की बात पर रॉबर्ट ने कहा था कि प्रियंका को उन्होंने घुटनों के बल बैठकर प्रपोज़ नहीं किया था बल्कि दोनों ने एक साथ बैठकर अपने रिश्‍तों के बारे में गंभीरता से चर्चा की थी। वहीं जब प्रियंका से उनकी प्रेम कहानी पर सवाल किया गया तो उन्‍होंने कहा था कि ‘ जब वे रॉबर्ट से पहली बार मिली थीं, उस समय वे मात्र 13 साल की थी। उस समय रॉबर्ट मुझसे वैसे ही मिलते थे, जैसे दूसरे दोस्‍तों से मिलते थे। मुझे उनमें ये बात पसंद आई थी।‘

नकवी ने शशि थरूर को बताया 'लव गुरु', जानिए क्या है पूरा मामला

जब दोनों ने शादी का निर्णय लिया था तो अपना ये फैसला सुनाने दोनों अपने परिवारों के पास गए। खबरों की मानें तो पहले तो रॉबर्ट के पिता इस शादी के लिए राजी नहीं थे, किन्तु बाद में उन्‍हें हां करनी पड़ी। प्रियंका गांधी एक कॉमन फ्रेंड के घर पर रॉबर्ट वाड्रा से पहली बार मिली थीं और दोनों दिल्‍ली के ब्रिटिश स्‍कूल में एक साथ पढ़ते थे। प्रियंका देश के मुख्य राजनीतिक परिवार से थीं और रॉबर्ट एक बिजनेसमैन के बेटे थे। हालांकि, दोनों परिवारों की सहमति से रॉबर्ट और प्रियंका ने 18 फरवरी 1997 को शादी कर ली। दोनों के दो बच्चे हैं, रेहान और मिराया।

खबरें और भी:-

पाक विदेश मंत्री कुरैशी का दावा, पाकिस्तान को अलग - थलग करने में नाकाम रहा भारत

अमर सिंह ने खोला राज, बताया मुलायम ने क्यों की पीएम मोदी की तारीफ ?

दिल्ली सरकार बनाम उपराज्यपाल: SC ने केंद्र और राज्य सरकार को बांटे अधिकार