इस वजह से बहुत खास है जेवर एयरपोर्ट, यात्रियों के लिए जरूरी होगा ये कोड

नोएडा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास करने वाले हैं। आप सभी को बता दें कि नोएडा एयरपोर्ट न सिर्फ देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा, बल्कि अत्याधुनिक भी होगा। कहा जा रहा है यह पेपरलेस और कॉन्टैक्ट लेस होगा। केवल यही नहीं बल्कि सबसे खास बात तो यह है कि यह पूरी तरह से डिजिटल सिस्टम से काम करेगा। जी दरअसल यह देश में ऐसा पहला एयरपोर्ट होगा, जिसके एक ही टर्मिनल से प्रवेश और निकासी होगी।

इसके बारे में यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट के सीईओ क्रिस्टोफ श्नेलमैन ने बताया कि, 'टिकट बुक करने से लेकर सफर पूरा करने तक सब कुछ मोबाइल के जरिए हो सकेगा। इसका एक ऐप होगा, जिसके जरिए आप टिकट बुक कर सकेंगे। भुगतान भी उसी से हो जाएगा। उस पर क्यूआर कोड होगा, प्रवेश गेट पर दिखाते ही वह स्कैन हो जाएगा और गेट खुल जाएगा।' आगे उन्होंने जानकारी दी कि, 'सफर के दौरान भी टिकट की जरूरत नहीं होगी। प्लेन के बारे में पूरी जानकारी भी ऐप से मिल सकेगी। किसी भी जगह पेपर का इस्तेमाल नहीं होगा और न ही प्रवेश या निकासी के समय किसी कर्मचारी की जरूरत पड़ेगी। एयरपोर्ट पर एक ही टर्मिनल से प्रवेश और निकासी की सुविधा होगी। ऐसा भारत का यह पहला एयरपोर्ट होगा।'

आप सभी को बता दें कि अब तक जितने भी एयरपोर्ट बने हैं उसके एक टर्मिनल से निकासी और दूसरे से प्रवेश मिलता है। ऐसा होने से यात्रियों की भागदौड़ बहुत कम हो जाएगी और साथ ही उनके समय की बचत होगी। आपको बता दें कि नोएडा एयरपोर्ट का निर्माण करते समय अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा, ऐसा होने के चलते प्रदूषण की समस्या नहीं होगी। हाल ही में क्रिस्टोफ श्नेलमैन ने बताया कि इसके निर्माण में ऐसे मेटल इस्तेमाल होंगे, जिससे कार्बन का उत्सर्जन नहीं होगा और यह पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त होगा। कहा जा रहा है यह देश का मॉडल एयरपोर्ट बनेगा, जो पूरी तरह से डिजिटल तकनीक पर आधारित होगा। आपको बता दें कि नोएडा एयरपोर्ट से 2024 में उड़ान शुरू हो सकेगी।

जेवर में PM मोदी के कार्यक्रम का विरोध करने की घोषणा करने वालों को किया नजरबंद

1 लाख लोगों को रोजगार देगा जेवर एयरपोर्ट!

आज UP को 5वें अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का तोहफा देंगे PM मोदी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -