अगर ऐसा हो तो प्रेग्नेंसी के दौरान भी हो सकते हैं पीरियड्स

अगर ऐसा हो तो प्रेग्नेंसी के दौरान भी हो सकते हैं पीरियड्स

गर्भवती, गर्भवती होने की बात की जाए तो इसका संकेत पीरियड्स के रुकने को माना जाता है. जब भी शादी के बाद किसी महिला को पीरियड्स नहीं आते हैं या पीरियड्स बंद हो जाते हैं तो उसे गर्भवती होने का सूचक माना जाता है. बहुत कम लोग यह जानते हैं कि गर्भवती महिला को भी पीरियड्स आते हैं. जी हाँ, बहुत सी ऐसी महिलाएं हैं जिन्हे प्रेग्नेंसी के दौरान भी पीरियड्स आते हैं लेकिन इससे गर्भ में पल रहे बच्चे को किसी प्रकार का खतरा नहीं होता है.

ऑफिस में ब्रा नहीं पहनने पर बॉस ने दिखाया बाहर का रास्ता

डॉक्टर्स का कहना है कि जिन महिलाओं का गर्भाशय दो हिस्सों में बंटा हुआ रहता है उनके साथ ऐसा होता है क्योंकि उनके एक हिस्से में बच्चा पलता है और दूसरे हिस्से में उन्हें पीरियड्स के दौर से गुजरना पड़ता है. जिन महिलाओं के दो गर्भाशय होते हैं उनके गर्भाशय को बाईकोर्नुएट यूट्रस कहा जाता है. अब आपको यह भी बता दें कि आखिर क्यों होती है प्रेग्नेंसी में ब्लीडिंग..

इंप्लाटेशन ब्लीडिंग: यह ब्लीडिंग प्रेग्नेंसी की सुचना देती है और इस दौराम महिलाओं को स्पॉटिंग होती है.

इस आदमी के शरीर में हैं इतने छेद जिसे शायद आप भी नहीं गिन पाएंगे

ट्यूबल प्रेग्नेंसी: यूट्रस की जगह अगर फर्टीलाइज्ड एग फैलोपियन ट्यूब में बढ़ते हैं तो उसे ट्यूबल प्रेग्नेंसी कहा जाता है ऐसे समय में भी ब्लीडिंग होती है.

इंफेक्शन: इंफेक्शन के दौरान भी प्राइवेट पार्ट्स में संक्रमण की वजह से रक्त निकलता है.

मिसकैरेज: प्रेग्नेंसी के वक्त अगर ब्लीडिंग होती है तो वह मिसकैरेज का प्रतीक भी हो सकता है. आपको बता दें कि अगर आपको प्रेग्नेंसी के दौरान ब्लीडिंग है तो आपको सबसे पहले डॉक्टर के पास जाना चाहिए.

देख भाई देख

जितनी छोटी होगी ड्रेस उतना ही ज्यादा देना होगा टैक्स

इस कैफ़े में चाय-कॉफी के साथ परोसे जाते हैं सांप और अजगर

यहां के जंगल में जाने से ही दूर हो जाती हैं बीमारियां

?