कंगना पर ओवैसी ने साधा निशाना, कहा- "देशद्रोह सिर्फ मुसलमानों के लिए..."

कंगना रणौत देश की आजादी का वर्ष 2014 बताकर कंगना विवादों में घिर चुकी है। सोशल मीडिया पर फैंस उनसे पद्मश्री वापस लेने की  मांग की जा रही है। इतना ही नहीं उनके विरुद्ध देशभर में विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। हालांकि अपने विवादित बयान के उपरांत भी कंगना माफी मांगने को तैयार नहीं हैं उन्होंने यह भी बोला है कि 1947 में कौन सा युद्ध हुआ था, ये मैं नहीं जानती। अगर कोई मुझे बता सकता है तो मैं अपना पद्मश्री वापस कर दूंगी और माफी भी मांग लूंगी। अब कंगना के इस बयान पर AIMIM के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने निशाना साध दिया है।

क्या देशद्रोह सिर्फ मुसलमानों के लिए है?: ओवैसी ने पूछा है कि क्या देशद्रोह सिर्फ मुसलमानों के लिए है? क्या वे लोग कंगना रणौत पर देशद्रोह का इलज़ाम लगाएंगे? ओवैसी ने कंगना का नाम लिए बिना यह भी बोला है कि, मैं इंडियन नेशनलिज्म को मानता हूं तो उन्हें पद्मश्री मिला है। अगर हम इस बात को कह देते तो UAPA लग जाता, मार-मार कर बुरा हाल कर दिया जाता। एक मोहतरमा ने बोला कि 2014 में सही मायने में देश आजाद हो पाया है। पीएम और सीएम एवं यूपी से पूछना चाहता हूं कि 1947 में आजाद हुआ था कि 2014 में। 

कंगना के बयान पर तंज कस्ते हुए ओवैसी ने बोला है कि 'वह क्वीन हैं और आप किंग (योगी आदित्यनाथ) लेकिन आप कुछ नहीं करने वाले है। बाबा ने इंडिया-पाक T 20 मैच के उपरांत  टिप्पणी करने वालों को देशद्रोह के इलज़ाम में जेल में डालने की धमकी तक दे दी थी, ' याद हो कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 24 अक्टूबर को हुए भारत-पाक के मैच  के उपरांत पाक की जीत का जश्न मनाने वालों को चेतावनी भी दी गई थी। 

अपने बचाव में कंगना ने क्या कहा है: कंगना ने लिखा था, 'मैंने झांसी की रानी लक्ष्मी बाई पर बनी फीचर मूवी में काम किया है। 1857 की लड़ाई पर बहुत रिसर्च किया है। राष्ट्रवाद के साथ दक्षिणपंथ का भी उभार हुआ लेकिन यह अचानक सम्पत कैसे हो गया? और गांधीजी ने भगत सिंह को क्यों मरने दिया। आखिर क्यों नेता बोस का कत्ल हुआ और उन्हें कभी गांधी जी का सपोर्ट नहीं मिला।' अपनी बात को जारी रखते हुए कंगना ने कहा, 'आखिर क्यों बंटवारे की रेखा एक अंग्रेज के द्वारा खींची गई? आजादी की खुशियां मनाने के बजाय हिंदुस्तानी एक दूसरे को मौत के घाट उतार रहे थे। मुझे ऐसे कुछ प्रश्नों के जवाब चाहिए जिसके लिए मुझे सहायता की आवश्यकता है। जहां तक 2014 में आजादी की बात है, मैंने विशेष रूप से बोला था कि भौतिक आजादी हमारे पास हो सकती है, पहली बार अंग्रेजी न बोलने या छोटे शहरों से आने या इंडिया में बने उत्पादों का इस्तेमाल करने के लिए लोग हमें शर्मिंदा नहीं कर सकते। जो चोर हैं उनकी तो जलेगी। कोई बुझा नहीं सकता... जय हिंद।

रिलीज हुआ अक्षय की फिल्म पृथ्वीराज का शानदार टीजर

चंडीगढ़ के इस आलिशान होटल में सात फेरे लेंगे राजकुमार राव-पत्रलेखा, देंखे ये बेहतरीन तस्वीरें

VIDEO! शादी के फंक्शन के दौरान परेशान हुई राज कुमार राव की दुल्हन पत्रलेखा, जानिए वजह

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -