मल्टीविटामिन प्रोबायोटिक्स से कम होगा कोरोना का संक्रमण

मल्टीविटामिन प्रोबायोटिक्स से कम होगा कोरोना का संक्रमण

बीएमजे न्यूट्रीशन प्रिवेंशन एंड हेल्थ जर्नल में प्रकाशित, यह संकेत देता है कि मल्टीविटामिन, ओमेगा -3, प्रोबायोटिक्स या विटामिन डी की खुराक लेने से SARS-CoV-2 के लिए सकारात्मक परीक्षण के जोखिम कम हो सकते हैं। लेकिन विटामिन सी, जिंक, या लहसुन की खुराक में से कोई भी लेना वायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण के कम जोखिम से जुड़ा नहीं था, निष्कर्ष बताते हैं। शोधकर्ताओं ने ध्यान दिया है कि दोनों वार्ड बंद करने और COVID -19 संक्रमण के इलाज के लिए आहार की खुराक के उपयोग के सेलिब्रिटी समर्थन के ढेरों शोधकर्ता ध्यान दें।

यूके में किंग्स कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने, कोविड-19 लक्षण अध्ययन ऐप के वयस्क उपयोगकर्ताओं को यह देखने के लिए आकर्षित किया कि क्या नियमित पूरक उपयोगकर्ताओं को SARS-CoV-2 के लिए सकारात्मक परीक्षण की संभावना कम थी। महामारी के विकास पर स्व-रिपोर्ट की गई जानकारी पर कब्जा करने के लिए मार्च 2020 में यूके, यूएस और स्वीडन में ऐप लॉन्च किया गया था। शोधकर्ताओं ने 372,720 यूके सब्सक्राइबरों द्वारा मई, जून और जुलाई 2020 में आहार की खुराक के अपने नियमित उपयोग के बारे में ऐप के माध्यम से आपूर्ति की गई जानकारी का विश्लेषण किया और महामारी की पहली लहर के साथ-साथ किसी भी कोरोनोवायरस स्वाब परीक्षण के परिणाम भी देखे।

प्रोबायोटिक्स, ओमेगा फैटी एसिड, मल्टीविटामिन या विटामिन डी लेने वाले अध्ययन में क्रमशः SARS-CoV-2 संक्रमण के 14 प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 13 प्रतिशत और 9 प्रतिशत से कम जोखिम के साथ जुड़ा हुआ था। शोधकर्ताओं के अनुसार विटामिन सी, जस्ता, या लहसुन की खुराक लेने वालों में ऐसा कोई प्रभाव नहीं देखा गया। जब शोधकर्ताओं ने विशेष रूप से सेक्स, उम्र और वजन (बीएमआई) को देखा, तो प्रोबायोटिक्स, ओमेगा -3 फैटी एसिड, मल्टीविटामिन और विटामिन डी के लिए सुरक्षात्मक संघ केवल सभी उम्र और वजन की महिलाओं में देखे गए थे। 

भारत से आने वाले यात्रियों पर पाकिस्तान ने लगाई रोक, कोरोना के चलते लिया फैसला

ट्विटर ने अपूर्व दलाल को भारत में इंजीनियरिंग निदेशक किया नियुक्त

फिलिस्तीन धीरे-धीरे आर्थिक सुधार की ओर बढ़ रहा है: पीएम मोहम्मद इश्तैये