बुद्ध जयंती पर मोदी का उद्बोधन

दिल्ली : बुद्ध जयंती पर दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मौजूदा वक्त में विश्व को बचाने के लिए बुद्ध का करुणा प्रेम का संदेश काम आ सकता है और इसके लिए बुद्ध को मानने वाली शक्तियों के सक्रिय भूमिका निभानी होगी. कार्यक्रम का आयोजन संस्कृति मंत्रालय और इंटरनेशनल बुद्धिस्ट कन्फेडरेशन (आईबीसी) साथ मिलकर किया है. 
पीएम मोदी ने कहा कि भगवान बुद्ध कहते थे कि किसी के दुख को देखकर दुखी होने से ज्यादा बेहतर है कि उस व्यक्ति को उसके दुख को दूर करने के लिए तैयार करो, उसे सशक्त करो.

उन्होंने कहा कि इस बात की खुशी है कि हमारी सरकार करुणा और सेवाभाव के उसी रास्ते पर चल रही हैं जिस रास्ते को भगवान बुद्ध ने हमें दिखाया था. पीएम ने कहा कि भारत की संस्कृति, इतिहास और सभ्यता इस बात की गवाह है कि हम कभी आक्रांता नहीं रहे, हमनें कभी भी किसी मुल्क पर हमला नहीं किया.

उन्होंने कहा कि ब्रिटिश हुकूमत के दौरान अनेक वजहों से हमारे यहां अपनी सांस्कृतिक विरासत को सहेजने का कार्य उस तरीके से नहीं हुआ, जैसे होना चाहिए था. इसी को ध्यान में रखते हुए हमारी सरकार अपनी सांस्कृतिक धरोहर और भगवान बुद्ध से जुड़ी स्मृतियों की रक्षा के लिए एक खास मिशन पर काम कर रही है. देश भर में आज बुद्ध जयंती पर कई आयोजन किये गए है. 

बुद्ध पूर्णिमा की महिमा

बुद्ध पूर्णिमा: आज जयंती समारोह में शिरकत करेंगे पीएम मोदी

Buddha Purnima: खूबसूरत जीवन में इन विचारों के साथ आगे बढ़े...

बुद्ध पूर्णिमा: शांति और त्याग की मिसाल गौतम बुद्ध

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -