'मोदी सरकार के उकसावे पर हुई हत्या..', सिंघु बॉर्डर के बर्बर हत्याकांड पर बोले राकेश टिकैत

नई दिल्ली: दिल्ली की सिंघू बॉर्डर पर शुक्रवार (15 अक्टूबर 2021) को लखबीर सिंह नामक शख्स की निहंगों द्वारा निर्मम हत्या किए जाने के मामले में सियासत शुरू हो गई है। इस मामले में किसान नेता राकेश टिकैत का बड़ा बयान सामने आया है। टिकैत ने इस बर्बर हत्याकांड का ठीकरा केंद्र सरकार के सिर पर फोड़ा है। टिकैत ने दावा किया है कि केंद्र सरकार के लोगों ने उकसाकर ये हत्या करवाई है। बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) पहले ही इस हत्याकांड से पल्ला झाड़ चुका है।

मीडिया से बात करते हुए टिकैत ने कहा कि, 'किसान संगठनों का इस हत्या से कोई लेना-देना नहीं है, ये हत्या किसान आंदोलन को बदनाम करने का षड्यंत्र है। उन्होंनें कहा कि सरकार ने आंदोलन को बदनाम करने के लिए प्रशासन को हजारों-करोड़ों रुपए दिए है। सिंघू बॉर्डर पर हुई घटना सरकार के उकसावे की वजह से हुई है।' इसके साथ ही लखीमपुर हिंसा पर टिकैत ने केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा पर संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि यदि कोई कत्ल करेगा तो उसके खिलाफ तो मोर्चा बनेगा ही। टिकैत ने कहा कि देश में बोलने की आजादी है और हम बोलेंगे। 

टिकैत ने ये कहा कि अजय मिश्रा के इस्तीफे तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। बता दें कि इससे पहले टिकैत कई बार कह चुके हैं कि कृषि कानूनों की वापसी तक आंदोलन जारी रहेगा। फिर उन्होंने कहा था कि 2024 (लोकसभा चुनाव) तक आंदोलन जारी रहेगा। लेकिन इन सबके बीच बड़ा सवाल ये है कि कृषि कानूनों पर जब सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है, तो ये आंदोलन जारी क्यों है ?  

चैनलों और OTT प्लेटफॉर्म को अपने पुराने कंटेंट बेचेगा प्रसार भारती, नोटिफिकेशन जारी

लार्सन टुब्रो ने एलएंडटी एडुटेक के सीईओ के रूप में सब्यसाची दास को किया नियुक्त

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड विश्व स्तरीय प्रशिक्षित बल है: अमित शाह

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -