मीटू से मिलेगा न्याय?

Oct 08 2018 06:58 PM
मीटू से मिलेगा न्याय?

हाल ही में बॉलीवुड अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने अभिनेता नाना पाटेकर पर आरोप लगाया कि एक फिल्म की शूटिंग के दौरान नाना ने उनसे जबरदस्ती करने की कोशिश की। जब उन्होंने मना किया, तो उन्हें डराया—धमकाया गया। तनुश्री ने यह आरोप मीटू कैंपेन के तहत लगाया। मीटू कैंपेन एक ऐसा कैंपेन है, जो  एक साल से पूरी दुनिया में चल रहा है। एक ऐसा कैंपेन या अभियान जिसमें महिलाएं अपने साथ  हो रही ज्यादतियों के बारे में  खुलकर बोल रही हैं। इन कैंपेन से ऐसी महिलाएं भी सामने आई हैं, जो ज्यादती के समय डर के कारण चुप रह गईं, लेकिन अब इसने उन्हें हिम्मत दी और वो खुलकर सामने  आ गईं। सिर्फ सेलिब्रिटीज ही नहीं आम  लड़कियां भी अपनी बात रख रही हैं। खुलकर विरोध कर रही हैं, ऐसे लोगों का, जिन्होंने किसी समय उनके साथ गलत किया या करने की कोशिश की। कई बड़े नाम इस लिस्ट में शामिल हैं। 

तनुश्री के आरोपों के बाद कई और अभिनेत्रियां भी सामने आई है, जिन्होंने खुद के साथ ज्यादती करने वालों के नाम उजागर ​किए हैं। हालांकि इस मीटू कैंपेन को लेकर कई तरह की बातें सामने आ रही हैं। कई लोगों का कहना है कि इसे दहेज कानून की तरह दुरुपयोग किया  जा रहा है। कई लोग यह भी कह रहे हैं कि 10 साल पहले क्यों तनुश्री ने अपना मुंह नहीं  खोला और अब 10 साल बाद यह सब कहकर वह क्या साबित करना चाहती हैं? कई लोग इसे लड़कियों का  पब्लिसिटी स्टंट भी बता रहे हैं। 

यहां पर गौर करने वाली बात यह है कि इस कैंपेन ने ऐसी लड़कियों को एक मंच दिया है, जो बहुत साधारण परिवार से ताल्लुक  रखती हैं और जो ऐसी बातें कहने से पहले अपने परिवार के बारे में सोचती थीं। लेकिन जब से उन्हें यह मंच मिला है, उन्होंने अपने खिलाफ  हो रही ज्यादतियों का खुलकर विरोध करना शुरू कर ​दिया है। यह एक अच्छा कदम है। आखिरकार लड़कियां अब खुलकर बोल तो रही हैं। हो सकता है कि इसका दुरुपयोग भी कुछ न कुछ हो रहा हो, लेकिन यह खुश होने वाली बात है कि आम लड़की इस कैंपेन से जुड़ रही है, यहां पर उसे ऐसे साथी मिल रहे हैं, जो उसकी परेशानी समझ रहे हैं और उसे प्रोत्साहित कर रहे हैं अपने साथ ज्याद​ती करने वाले के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए। यह सब सुखद अहसास है। 

मीटू कैंपेन से एक उम्मीद जगी है कि शायद अतीत के गर्त में दबे ऐसे  मामलों में ​एक लड़की को न्याय ​मिल सके, जिसे वह किसी से नहीं कह पाई। खैर अब यह देखना होगा कि  क्या सच में यह कैंपेन इस साल भी पिछले साल की तरह की सफल हो पाता है? क्या सच में मीटू किसी लड़की को न्याय दिला पाता है? 

जानकारी और भी

बसपा—सपा का साथ कांग्रेस के लिए परेशानी

राम के सहारे 2019 की जंग

कांग्रेस की नीति से जीतेगी भाजपा!