लालू को नहीं मिली बेल, फिर भी जारी रहेगा चुनावी खेल, जेल से ही देंगे प्रत्याशियों को सिम्बल

लालू को नहीं मिली बेल, फिर भी जारी रहेगा चुनावी खेल, जेल से ही देंगे प्रत्याशियों को सिम्बल

रांची: राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को जमानत नहीं मिलने के बाद अब ये लगभग निर्धारित हो गया है कि, लोकसभा चुनाव के लिए अपने दल के उम्मीदवारों को उन्हें जेल से ही सिंबल देना होगा. अन्य विकल्पों के लिए उनके पास अब वक़्त ही नहीं बचा है. हालांकि, बाहर आने के लिए उन्होंने शीर्ष अदालत में अपील करने की तैयारी कर रखी है.

कुमारस्वामी के बयान पर पीएम मोदी ने दी प्रतिक्रिया, कर्नाटक सीएम की छूटी हंसी

उल्लेखनीय है कि राजद विपक्षी दलों का महागठबंधन बना कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), जनता दल यूनाइटेड (जदयू) व लोक जनशक्ति पार्टी (लाेजपा) के विरुद्ध बिहार में लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में लगा हुआ है. चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू यादव की गैर मौजूदगी में पार्टी की सारी रणनीति नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव तैयार कर रहे हैं.

अरुणाचल में होने वाले विधानसभा चुनाव में अकेले लड़ेगी एनपीपी

वहीं निर्वाचन आयोग के नियमों और राजद के संविधान के लिहाज से अपने दल के उम्मीदवारों को सिंबल देने का अधिकार सिर्फ लालू प्रसाद यादव के पास है. राजद के रणनीतिकारों को रांची उच्च न्यायालय से जमानत लेते हुए लालू के बाहर निकलने की आशा थी, किंतु उन्हें हताशा हाथ लगी है, ऐसे में अब सारी चुनवी प्रक्रियाएं जेल से ही पूरी करनी होंगी. आपको बता दें कि लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू फिलहाल इलाज के लिए रांची के रिम्स अस्पताल में भर्ती हैं.

खबरें और भी:-

मलयेशिया : पहांग राज्य ने की अपने नए सुल्तान के नाम की घोषणा

राबड़ी देवी पर टिप्पणी करने पर अपनी ही बेटी के निशाने पर आए पासवान

सपा बसपा गठबंधन पर बोले राहुल, कहा पूरी ताकत के साथ लड़ेगी कांग्रेस