मंचीय नाटकों से बॉलीवुड तक पहुंचे लक्ष्मीकांत बेर्डे

जाने माने मशहूर कॉमेडियन लक्ष्मीकांत बेर्डे का जन्म आज ही दिन हुआ था, लक्ष्मीकांत बेर्डे का जन्म 26 अक्टूबर 1954 को बॉम्बे (मुंबई) में हुआ था। उनके पांच बड़े भाई-बहन थे तथा परिवार की आय बढ़ाने के लिए एक बच्चे के रूप में लॉटरी टिकट विक्रय करते थे। गिरगांव में किए गए गणेश उत्सव कार्यक्रम के लिए सांस्कृतिक गतिविधियों के दौरान मंचीय नाटकों में उनकी हिस्सेदारी ने उन्हें एक्टिंग में दिलचस्पी दिखाई। उन्होंने इंटर-स्कूल तथा इंटर-कॉलेज ड्रामा प्रतियोगिताओं में पार्ट लेने के लिए अवार्ड जीते। इसके पश्चात् लक्ष्मीकांत बेर्डे ने मुंबई मराठी साहित्य संघ में काम करना आरम्भ कर दिया।

वही मराठी साहित्य संघ में एक कर्मचारी के तौर पर काम करते हुए, लक्ष्मीकांत बेर्डे ने मराठी मंचीय नाटकों में छोटे किरदारों में एक्टिंग करना आरम्भ की। 1983-84 में, उन्होंने पुरुषोत्तम बेर्दे के मराठी स्टेज प्ले टूर में अपनी प्रथम प्रमुख किरदार हासिल की जो हिट बन गई तथा बर्दे की कॉमेडी की शैली को सराहा गया। बेर्डे ने अपनी मूवी का आरम्भ 1984 की मराठी मूवी लेक चलली ससरला से की। इसके पश्चात्, उन्होंने और एक्टर महेश कोठारे ने धूम धड़ाका (1984) तथा डी दानदान (1987) में एक साथ एक्टिंग की। ये दोनों मूवीज प्रसिद्ध हुईं तथा बेर्डे ने अपनी ट्रेडमार्क कॉमेडी शैली स्थापित करने में सहायता की।

अधिकांश मूवीज में, उन्होंने या तो कोठारे के साथ एक्टिंग की या एक्टर अशोक सराफ के साथ। लक्ष्मीकांत बेर्डे – अशोक सराफ की जोड़ी को इंडियन मूवी में एक सफल मुख्य एक्टर के तौर पर पहचाना जाता है। बरदे ने, अशोक सराफ, सचिन पिलगाँवकर और महेश कोठारे के साथ मिलकर 1989 की मराठी मूवी असी ही बनवा बनवी में एक साथ एक्टिंग करने के पश्चात् मराठी मूवीज में एक सफल चौकड़ी बनाई।

सलमान खान ने इस कंटेस्टेंट को बताया 'टीवी की कैटरीना कैफ', कहा- इसलिए मुझे अच्छी लगती हो

अमिताभ बच्चन ने की कैटरीना कैफ की तारीफ, फोटो शेयर कर कही ये बात

सलमान खान ने इस कंटेस्टेंट को बताया 'टीवी की कैटरीना कैफ', कहा- इसलिए मुझे अच्छी लगती हो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -