भगवान कृष्ण के मंदिर जाने से पहले इन बातों का ध्यान रखना बहुत जरुरी है

Mar 14 2018 03:12 PM
भगवान कृष्ण के मंदिर जाने से पहले इन बातों का ध्यान रखना बहुत जरुरी है

हमारे शास्त्रों और पुराणों में ऐसी बहुत सी कथाएं प्रचलित है, जो किसी न किसी देवता से सम्बंधित होती है और इन कथाओं के माध्यम से व्यक्ति को कोई न कोई सीख अवश्य प्राप्त होती है. जिससे वह अपने आने वाले समय में या वर्तमान में अपनी गलतियों को सुधार सकता है. ऐसी ही एक कथा भगवान कृष्ण से सम्बंधित है जो हमें इस बात का ज्ञान कराती है कि जब भी हम भगवान कृष्ण के मंदिर में जाते है, तो उनकी पीठ के दर्शन कभी नहीं करना चाहिए. आइये जानते है इससे सम्बंधित कथा के अनुसार भगवान कृष्ण के पीठ के दर्शन करने से क्या होता है?

कथा के अनुसार- जब भगवान श्री कृष्ण और जरासंध के बीच युद्ध हो रहा था तब जरासंध का मित्र कालयवन असुर ने भी भगवान कृष्ण को युद्ध की चुनौती दी और भगवान श्री कृष्ण के समक्ष खड़ा हो गया. तब भगवान श्री कृष्ण युद्ध भूमि छोड़कर भागने लगे तथा कालयवन उनका पीछा करने लगा. उस समय भगवान कृष्ण रणभूमि छोड़कर इसलिए भागे थे, क्योंकि कालयवन के पिछले जन्म के पुण्य के कारण भगवान कृष्ण उसे मार नहीं सकते थे.

कालयवन भगवान की पीठ के दर्शन करते हुए उनके पीछे-पीछे भाग रहा था, जिसके कारण उसके पुण्य का प्रभाव समाप्त हो गया. तब भगवान कृष्ण भागकर वहां स्थित एक गुफा में चले गए जहाँ पूर्व से ही राजा मुचुकुंद सो रहे थे जिन्हें इन्द्रदेव से वरदान मिला था कि जो भी उसे नींद से जगायेगा राजा की नजर उसपर पड़ते ही वह भस्म हो जाएगा. तब कालयवन ने उस गुफा में जाकर मुचुकुंद राजा को कृष्ण समझकर उठा दिया जिससे राजा की नजर पड़ते ही वह भस्म हो गया. इसी कथा के कारण भगवान कृष्ण को रणछोड़ नाम से जाना जाता है. इसलिए आप जब भी भगवान कृष्ण मंदिर में जाये यब  उनकी पीठ के दर्शन न करें.

शनिवार के दिन अनजाने में किया गया यह काम शनिदेव को करता है नाराज

ऐसे लोग लड़कियों से दोस्ती करते है तो सिर्फ काम वासना के लिए

ऐसे पहचाने आपके घर में नकारात्मक शक्ति का वास है अथवा नहीं

वरुण तेज के साथ कज़ाकिस्तान में ट्रेनिंग लेंगी अदिति राव हैदरी

?