जम्मू कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक ने किया श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड का पुनर्गठन

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक ने श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के नौ सदस्यीय बोर्ड का तीन साल की अवधि लिए नए सिरे से गठन किया है. एक आधिकारिक प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी दी. प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया है कि एसएएसबी के अध्यक्ष के तौर पर मलिक ने स्वामी अवधेशानंद गिरी जी महाराज, प्रोफेसर अनिता बिल्लावारिया, पंडित भजन सोपोरी, भारतीय वन सेवा (आईएफएस) के रिटायर्ड अफसर डॉ. सी एम सेठ, डॉ. देवी प्रसाद शेट्टी, डी सी रैना, डॉ. सुदर्शन कुमार, तृप्त धवन और प्रोफेसर विश्वमूर्ति शास्त्री को बोर्ड के सदस्य के रूप में जगह दी है. 

कश्मीरी छात्रों पर हो रहे हमले को लेकर नेशनल कांफ्रेंस का विरोध प्रदर्शन, केंद्र पर लगाए आरोप

महाराज हिंदू धर्म आचार्य सभा ट्रस्ट के प्रमुख और विश्व धर्मगुरू परिषद के मनोनीत मेंबर हैं. वहीं सोपोरी प्रसिद्ध संतूर वादक हैं. शेट्टी एक  जाने माने डॉक्टर और नारायण हेल्थ अस्पताल संगठन के प्रमुख एवं संस्थापक हैं जबकि रैना जम्मू-कश्मीर के महाधिवक्ता हैं. प्रवक्ता ने बताया है कि सेठ भारतीय वन सेवा के रिटायर्ड अफसर और राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पूर्व प्रमुख हैं. अभी वे जम्मू-कश्मीर राज्य सांस्कृतिक एवं धरोहर प्राधिकरण के मेंबर और राज्य जैव विविधता बोर्ड के भी मेंबर हैं. वहीं कुमार एक मशहूर वैज्ञानिक और रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के पूर्व महानिदेशक हैं. 

खाद्य तेलों में गिरावट के साथ गुड़ और गेहूं के दाम भी घटे

उन्होंने कहा है कि बिल्लावारिया जम्मू विश्वविद्यालय में इतिहास विभाग की अध्यक्ष हैं और धवन व्यक्ति विकास केंद्र के ट्रस्टी हैं. वे उत्तर भारत में आर्ट ऑफ लिविंग की तमाम गतिविधियों पर निगाह रखते हैं. प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया है कि शास्त्री जाने माने संस्कृत एवं वैदिक ज्ञान के विद्वान हैं. वे अभी श्री माता वैष्णो देवी गुरूकुल के निदेशक के पद पर हैं. 

खबरें और भी:-

समाप्त सप्ताह में विदेशी पूंजी भंडार 1.50 अरब डॉलर बढ़कर 398.27 अरब डॉलर हुआ

इस सप्ताह मामूली तेजी के साथ बंद हुए घरेलू शेयर बाजार

शूटिंग वर्ल्ड कप: पाक निशानेबाज़ों को भारत ने नहीं दिया वीज़ा, IOC ने उठाया बड़ा कदम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -