इंदौर : फीवर क्लीनिक में 52 हजार 656 लोग पहुंचे, कम हुए सर्दी, खांसी व बुखार के मरीज

इंदौर: कोरोना की रोकथाम के लिए प्रशासन हर संभव कोशिशे कर रहा है. इसके अलावा फीवर क्लीनिक की व्यवस्था भी की गई है. शहर के फीवर क्लीनिक में पहुंचने वाले मरीजों में अब सर्दी, खांसी व बुखार से पीड़ित मरीज कम पहुंच रहे हैं. हालांकि कई क्लीनिक तो ऐसे हैं जिनमें दो दिनों से एक भी ऐसा मरीज नहीं पहुंचा है. एक माह पहले इन क्लीनिकों को शुरुआत जिस उद्देश्य से की गई, उसका परिणाम भी बेहतर सामने आने लगा है.  

अब तक शहरी क्षेत्र के 19 व ग्रामीण क्षेत्रों के फीवर क्लीनिकों में 52 हजार 656 मरीज पहुंच चुके हैं. इनमें से 104 मरीजों में सांस लेने की तकलीफ के साथ सर्दी, खांसी व बुखार के लक्षण भी  मिले है. 687 मरीजों में सर्दी, खांसी व बुखार के लक्षण मिले  हैं. 446 मरीजों को होम क्वारंटाइन कर दिया गया है व 247 मरीजों को रेड जोन के अस्पतालों में रेफर किया गया.

बता दें की दोपहर को शिवाजी नगर फीवर क्लीनिक की ओपीडी में मरीज पहुंच रहे थे. डॉक्टर जांच करने के बाद उनसे पूरी जानकारी भी लेते रहे है. एक रजिस्टर में नाम नोट किया गया है. इसमें 14 दिनों के संपर्क, किसी पॉजिटिव मरीज की जानकारी होने या उससे मुलाकात होने की जानकारी ली गई है. साथ ही लक्षणों पर भी डॉक्टर विशेष ध्यान दे रहे हैं. इस संबंध में प्रभारी डॉक्टर विजय हरलालका ने बताया कि पूरे दिन में लगभग 50 मरीज ओपीडी में पहुंचे है . इनमें से एक भी मरीज सर्दी, खांसी, बुखार वाला नहीं मिला है. 50 में सिर्फ फीवर के लक्षण वाले आठ मरीज पहुंचे, जिन्हें कोरोना संदिग्ध नहीं माना जा सकता है. उन्होंने आगे बताया कि यहां मंगलवार को भी यही स्थिति बनी हुई थी. इसके पहले आने वाले मरीजों में भी बुखार के मरीज कम हो रहे हैं.

इस शहर में तबाही मचा रहा है कोरोना, तेजी से बढ़ रहे है संक्रमित

डॉक्टर्स डे पर रितेश-जेनेलिया ने लिया यह अहम फैसला, जानकर करेंगे तारीफ़

आनंदीबेन पटेल ने ली मध्य प्रदेश के प्रभारी राज्यपाल की शपथ

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -